अंत: सलिला फल्गु नदी में विसर्जित की गई पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि

80
0
SHARE

गया – मोक्ष धाम गया में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा पहुँचा। अस्थि कलश यात्रा के साथ भाजपा सांसद गिरिराज सिंह सहित भाजपा सांसद, विधान परिषद सहित कई कार्यकर्ता पहुँचे, अस्थि विसर्जन कार्यक्रम के पूर्व गया के आजाद पार्क में श्रधांजलि सभा का आयोजन किया गया जहां सैकड़ो लोगों ने श्रद्धा सुमन अर्पित की उसके बाद शहर के जीबी रोड होते हुए विष्णुपद मन्दिर स्थित देवघाट पहुँचा जहां अंतः सलिला फल्गु नदी में अस्थियां विसर्जित की गई।

हद तो तब हो गयी जब श्रद्धांजलि देने से पहले लोगों ने प्रतिमा के साथ सेल्फी लेनी शुरू कर दी। कार्यकर्ताओ ने पहले सेल्फी ली फिर श्रधांजलि दी।

इस मौके पर गिरिराज सिंह ने कहा कि अटल जी के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए पार्टियों की, धर्मो की, जातियों की और देश की सीमा टूट गयी है। विदेश से लेकर पूरा देश शोकाकुल रहा। गया सनातन धर्मों के लिए मुक्ति के उत्तम और पुण्य जगह माना जाता है इसलिए गया में भी अस्थि कलश विसर्जित किया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री के भाजपा राजनीतिक लाभ लेने के लिए कलश यात्रा निकालने के बयान पर गिरिराज सिंह ने कहा कि कलश यात्रा में पार्टी का कहीं झंडा नहीं है सभी राजनीतिक दलों और सभी धर्मों के लोग है। इसे राजनीति से न जोड़े ज्यादा बेहतर होगा। स्व0 अटल की सपना था नदियों को नदियों से जोड़ना इस पर कहा कि सरकार उनकी सोच पर काम कर रही है।