अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं के घरों पर हुए बेवजह छापेमारी के विरोध में प्रदर्शन

338
0
SHARE

पटना – अर्द्धरात्रि में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बिहार प्रदेश कार्यालय एवं कार्यकर्ताओं के घरों पर हुए बेवजह छापेमारी के विरोध में आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के प्रचार-प्रसार में काली पट्टी बांधकर विश्वविद्यालय के सभी कॉलेजों में विरोध प्रदर्शन किया गया।

बता दें कि कल अर्द्धरात्रि में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश कार्यालय एवं कई कार्यकर्ताओं के घरों पर बिहार पुलिस द्वारा एक साथ छापेमारी की गई है, जिससे कार्यकर्ताओं में आक्रोश का माहौल व्याप्त है। इस घटना के विरोध में पूरे बिहार में बिहार सरकार के खिलाफ आम छात्रों में जन-आक्रोश है।

इस घटना के संदर्भ में पटना विश्वविद्यालय के सिनेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा कि अभाविप द्वारा पिछले छात्रसंघ चुनाव में मिली बढ़त ओर वर्तमान छात्रसंघ चुनाव में आम छात्राओं के बीच बढ़ती लोकप्रियता से बौखलाकर बिहार सरकार अपनी हार को देखते हुए उनके इसारों पर इस प्रकार के शर्मनाक घटना को अंजाम दिया जा रहा है। यह बिहार सरकार के धनबल और प्रशासनिक व्यवस्था का दुरुपयोग मात्र है।

इस छात्र संघ चुनाव में पटना विश्वविद्यालय के छात्राओं द्वारा अपने मतों के माध्यम से इस प्रकार के कुत्सित मानसिकता एवं शिक्षा विरोधी सरकार को करारा जवाब देगी। आज तक विद्यार्थी परिषद कार्यालय में कभी भी पुलिस का हस्तक्षेप नहीं हुआ है। बिहार सरकार द्वारा इस प्रकार के प्रशासनिक दबाव बनाकर चुनाव को जीतना चाहते हैं। आज के विरोध प्रदर्शन में अभाविप के उम्मीदवार अध्यक्ष-अभिनव कुमार, उपाध्यक्ष- अंजना सिंह, महासचिव – मणिकांत मणी, संयुक्त सचिव- राजा रवि, कोषाध्यक्ष -सत्यम प्रकाश साथ ही विक्की राय, राम शर्मा, सुधांशु भूषण झा, कौशल मिश्रा, विकास चन्द्र सिंह आदित्य आर्यन सहित दर्जनों कार्यकर्ता लगे थे।