अध्यक्ष के खिलाफ लाये गए अविश्वास प्रस्ताव का आवेदन सौंपा गया डीडीसी को

163
0
SHARE

औरंगाबाद – जिला परिषद् की राजनीति एक बार फिर गरमा गयी है। हाल ही में अध्यक्ष के खिलाफ लाये गए अविश्वास प्रस्ताव पर बुलाई गयी बैठक को निरस्त कर दिए जाने के बाद 17 सदस्यों का हस्ताक्षरयुक्त एक आवेदन डीडीसी को सौंपा गया। जिसमें जिला परिषद् अध्यक्ष के खिलाफ एक बार फिर अविश्वास प्रस्ताव लाया गया है। सदस्यों ने आवेदन देने के बाद जल्द ही इस पर चर्चा को लेकर बैठक बुलाये जाने की मांग की है।

इधर प्रस्ताव लानेवाले सदस्यों की प्रमुख एवं अध्यक्ष पद की दावेदार नीलू देवी ने बताया कि उन्हें पूरा विश्वास है कि इस बार का अविश्वास प्रस्ताव जरूर पारित होगा और वर्तमान अध्यक्ष को अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ेगी। गौरतलब है कि पूर्व में 9 जुलाई को वर्तमान जिप अध्यक्ष नीतू सिंह के खिलाफ कुछ पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव लाया था और उस पर बहस के लिए 16 जुलाई को बहस के लिए तिथि निर्धारित की गयी थी लेकिन कोरम पूरा नहीं होने के कारण बहस नहीं हो सका। ऐसी स्थिति में नीतू सिंह ने खुद को अध्यक्ष बताया और अपने समर्थन में बहुमत के लिए वांछित पार्षदों का परेड कराकर अध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हो गयी। वहीं नीलू देवी ने अध्यक्ष के द्वारा बुलाये गए बैठक की वैधता को चुनौती देते हुए कहा कि हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की। नीलू देवी ने बताया कि कोर्ट ने भी उक्त बैठक को अवैध करार दिया है। पुनः चार सदस्यों ने अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया और इसके बहस के लिए अगली तिथि निर्धारित करने की मांग की। अध्यक्ष की दावेदार नीलू ने अध्यक्ष के विरुद्ध 17 पार्षदों के हस्ताक्षर युक्त आवेदन जिप अध्यक्ष, डीडीसी एवं जिलाधिकारी को सौंपा है। अपने द्वारा सौंपे गए आवेदन में नीलू ने वर्तमान अध्यक्ष के ऊपर कई गंभीर आरोप लगाया है।