अनाथ आश्रम बना युद्ध का अखाड़ा

163
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – भभुआ विशिष्ट दत्तक ग्रहण संस्थान में अनाथ बच्चों को रखा जाता है जो एनजीओ के माध्यम से संचालित होता था। मुजफ्फपुर मामले के बाद सभी कर्मियों को हटाने का आदेश जारी किया गया। पर तत्काल बहाली तक सभी कर्मी कार्य करे इसके लिए आदेश जारी किया गया है। बिहार सरकार के आदेश के बाद संस्थान को सरकारी संचालन होने से कर्मियों में हड़कंप मचा है। जिससे आज अनाथ आश्रम युद्ध का अखाड़ा बन गया। एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोप जारी है। जिसको लेकर संस्थान के सात कर्मियों ने सहायक निदेशक पर आरोप लगाते हुए सामूहिक डीएम के पास इस्तीफा दिया। उसके बाद भी सभी कर्मी कार्य करते दिखे, तो किसी ने यह आरोप लगाया कि बच्चों को दूध नहीं दिया जाता और बच्चों को मारा-पिटा जाता है।
वहीं सहायक निदेशक ने सारे आरोप को बेबुनियाद बताया और कहा कि कर्मियों के सेवा मुक्त का भय सता रहा है जिससे कर्मी आरोप लगा रहे है।