अनीता कुंडू भ्रूण हत्या, बाल-विवाह और दहेज प्रथा के विरोध में चला रही अभियान

295
0
SHARE

पटना – बीजेपी के राज्य सभा सांसद आरके सिंह के आवास पर संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया गया। संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरके सिंह ने कहा कि पटना की धरती पर मैं देश की विश्व भर में ख्याति प्राप्त पर्वतारोही एवं नारी सशक्तिकरण के लिए जीवन समर्पित करने वाली बेटी अनीता कुंडू का स्वागत करता हूं।

अनीता हरियाणा सदस्य हिसार जिले के एक सुदूर गांव की रहने वाली है। जाट समुदाय में कुंडू का एक अति पिछड़ा परिवार है जो आर्थिक दृष्टि से कमजोर और शिक्षा एवं समृद्ध की दृष्टि से अति पिछड़ा है। बचपन से दो बार की पर्वतारोही अनीता कुंडू को बॉक्सिंग का शौक था। लेकिन किशोरावस्था में इनके पिता की मृत्यु के बाद यह पूरा नहीं हो पाया उस वक्त यह मात्र 13 वर्ष की थी।

परिवार में तीन बहने और एक भाई में सबसे बड़ी होने के कारण अनीता ने मां का हाथ बटाए। परिवार को पालने के लिए खेतों में हल चलाया मजदूरी तक की। तब इन्होंने एवरेस्ट फतह करने की ठानी 18 मई 2013 को नेपाल की तरफ से और एक 23 मई 2017 को चीन की तरफ से 2 बार एवरेस्ट फतह करने वाली देश की पहली महिला बनी।

अनीता कुंडू की नवीनतम सफलता 14 जनवरी 2019 को अंटार्कटिका गले सीरियल के विंसन शिखर पर फतह हासिल करने की है। मकर सक्रांति की शोभा 4:00 बजे जब इस विचार को खत्म करके अनीता ने एसआईएस का झंडा फहराया। वहां का तापमान शून्य से – 66 डिग्री से कम था। अनीता कुंडू अपना पूरा जीवन नारी सशक्तिकरण को समर्पित करना चाहती है। भ्रूण हत्या, बाल-विवाह और दहेज प्रथा के विरोध में अभियान चला रखा है।