अपराधी बेखौफ, पुलिस बेखबर

573
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा- इन दिनों सहरसा जिले में अपराध का ग्राफ थमने को नाम ही नहीं ले रहा है। मानो जैसे आपराधिक घटनाओं की सुनामी आ गयी हो। पूरे जिले में यूं कहें तो खौफ का कोहरा बादल सा छा गया है। अपराधियों का बेखौफ तांडव, हत्या, लूट, डाका जैसे संगीन अपराध सर चढ़कर बोलने लगा है। हर दिन एक से बढ़कर एक आपराधिक घटना ने जहां आम आवाम को दहशत में डाल रखा है, वहीं जिले की पुलिस कटघरे में खड़ी दिख रही है। ताजा वाक्या बीती रात तकरीबन डेढ़ बजे की है। जिले के बिहरा थाना के रकिया पिपरा गाँव के अरविंद सिंह के घर दस से बारह की संख्या में हरबो हथियार से लैस अपराधियों ने घर पर धावा बोला।

पहले घर के बाहर गृहस्वामी के कमरे की कुंडी लगाकर घंटो बारी-बारी से सभी कमरे में उत्पात मचाते हुए तकरीबन 28 भरी सोना और 76 भरी चांदी, 12 लाख कीमत के जेवरात लेकर बेखौफ चलते बने। घंटों पूरे घर के अलमीरा समेत बक्शे को खंगालते हुए कीमती ब्रीफकेस समेत कई बक्शे को भी ले गए अपने साथ और गांव के बहियार में खंगालकर सारे सामान को फेंक दिया।

गृह स्वामी खुद पूरा परिवार शादी में गए थे किशनगंज। गृह स्वामी का लड़का घर पर था मौजूद। अपराधियों ने सोये हुए लड़के के कमरे को कुंडी लगाकर घंटों भीषण डाका को दिया अंजाम। सबसे बड़ा सवाल बिहरा थाना की गश्ती पुलिस थी कहाँ, गश्ती पुलिस और गाँव के चौकीदार की नजर क्यों नही पड़ी? कई ऐसे सवाल हैं जो पुलिस के कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे हैं। हालांकि सुबह होते ही पूरे इलाके में भीषण डकैती ने इलाके के लोगों में सनसनी फैला दी। दिन के लगभग 10 बजे सहरसा के एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी अपने पूरी पुलिसिया लाव लश्कर समेत खोजी कुत्ता को लेकर पहुंचे मौके वारदात पर, फिर शुरु हुई पुलिस की तफ्तीश।

गांव के बहियार में ब्रीफकेस और सामान को फेंकते हुए बेखौफ अपराधी फरार हो गये। अब पुलिस के अधिकारी खोजी कुत्ता से इस भीषण डाका का पता लगाने में जुटे हैं। हालांकि खुद गृह स्वामी के बेटे को आकलन नहीं था कि इतनी बड़ी वारदात हुई होगी। धीरे-धीरे जब सारे चीज की जानकारी खुद पिता से मिली तो होश उड़ गए।