अपहरण कर हत्या, बाद में 50 लाख फिरौती की मांग

448
0
SHARE

सुपौल / संवाददाता-

कहा जाता है न बाप बड़ा न भैया, सबसे बड़ा रूपैया। कुछ ऐसा ही मामला बिहार के सुपौल जिले के पिपरा थाना क्षेत्र में देखने को मिला है, जहां लालच, ईर्ष्या और दुश्मनी में लोग रिश्ते का भी खून कर देते हैं। जिले के पिपरा थाना इलाके के कमलपुर गांव में एक बहनोई ने अपने ही साले को अपहरण कर उसकी हत्या कर दी। फिर उसके शव को कोशी नदी में फेंक कर ठिकाना लगा दिया। बाद में अपराधियों ने परिजनों से 50 लाख फिरौती की मांग भी कर दी। इसके बाद परिवार वालों ने पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद अपराधी पुलिस की गिरफ्त में आये। जिस मामले का खुलासा पुलिस अधीक्षक ने उन हत्यारों को पकड़ने के बाद किया है। आईये देखते हैं पूरा मामला ।

यह तश्वीर 19 वर्षीय केशव झा की है, जिसको उसी के रिश्ते में लगने वाले बहनोई पवन मिश्रा ने 11 जून की शाम को बुलवा कर अपहरण कर लिया और उसकी 11 जून की देर रात हत्या कर कोशी नदी मे ठिकाना लगा दिया। इस बात का खुलासा सुपौल पुलिस अधीक्षक ने आरोपियों के स्वीकारती बयान के आधार पर किया है। जबकि 11 जून से अपहृत केशव झा को लेकर परिजनों ने लिखित शिकायत 13 जून को पिपरा थाने में की थी और 18 जून को केशव के परिजनों को अपराधियों द्वारा उसे छोड़ने के एवज में फोन पर 50 लाख रुपये बतौर फिरौती की डिमांड भी एक बार की थी। लेकिन उस फोन मे परिजनों ने अपने बेटे की आवज़ सुनी और फ़िर दुबारा कोई फिरौती नहीं मांगी गई।

जबकि इस दरभ्यान केशव मामले को लेकर इलाके में आक्रोश बढ़ता गया। कई सियासत करने वाले राजनेता केशव को ढूंढ निकालने की मांग लगातार करते रहे। अब इस मामले में पुलिस को केशव झा का मोबाइल बरामद हुआ। जिस मोबाइल के वैज्ञानिक अनुसंधान से उसके बहनोई पवन मिश्रा और रामदेव कामत की गिरफ्तारी की गयी। वहीं हत्या में शामिल वीरेन्द्र कामत पुलिस को चकमा देकर अभी फरार है। पुलिस के समक्ष आरोपियों ने खुलासा किया की उसकी हत्या 11 जून को की गयी और उसके हत्या से पहले ही उसके वॉयस रिकार्ड कर लिया गया। जिसके आधार पर परिजनों से सकुशल दिखला कर फिरौती की डिमांड करने की बात बतलाया गया हैं।

इधर पुलिस कप्तान ने बतलाया की उसके शव की बरामदगी को लेकर कोशी नदी में एनडीआरएफ की टीम गोताखोर की मदद से ढूंढ़ने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं पीड़ित के परिजनों का मानना है की जब तक वो अपने बेटे का लाश नहीं पा जाते हैं तब तक उसे मरा हुआ नहीं समझेगा। हांलाकि पुलिस के अनुसार यह हत्या, द्वेस, लालच और पुरानी दुश्मनी को लेकर किया गया है। क्योंकि हाल में ही केशव झा के पिता को सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण की गयी ज़मीन को लेकर सरकारी मूआवजे की मोटी रकम मिली थी।