अब ऐतिहासिक विक्रमशिला विवि को भी पुनर्जीवित करने की जरुरत : नीतीश

1752
0
SHARE

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शनिवार को कहा कि अब ऐतिहासिक विक्रमशिला विश्वविद्यालय को भी पुनर्जीवित करने की शुरुआत होनी चाहिए। इसके लिए उन्होंने नालंदा विश्वविद्यालय को पुनर्जीवित करने में सहयोग करने वालों से आगे आने का आग्रह किया।

नीतीश कुमार ने कहा कि नालंदा को विश्व धरोहर में शामिल किया जाना गौरव की बात है। अब तेल्हाड़ा और विक्रमशिला को भी विकसित करना है। यह बातें उन्होंने नालंदा विश्वविद्यालय के पहले दीक्षांत समारोह में कही।

उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार के विदेश सचिव से उनकी बात हुई है। उन्होंने बताया कि तीन साल में नालंदा विश्वविद्यालय के भवन का निमार्ण पूरा हो जाएगा। केन्द्रीय मंत्री सुषमा स्वराज यहां नहीं हैं। वह यदि यहां होतीं तो उनसे ही तीन साल में इसके पूरा कराने की घोषणा कराते।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नालंदा विश्वविद्यालय को हर संभव मदद का भरोसा दिलाते हुए कहा कि उनकी सरकार की कोशिश है कि यह विवि केन्द्र या राज्य सरकार पर निर्भर न रहे. यह अपने बलबूते चले. कैम्पस के पास ही यूनिवर्सिटी को 70 एकड़ जमीन दी गई है। विवि इसे जैसा चाहे इस्तेमाल करे।

उन्होंने आगे कहा कि बिहार सरकार नालंदा विवि से खुद को अलग नहीं मानती। यहां से बड़ी शुरुआत होगी। भारत से दुनिया को ज्ञान की रोशनी मिली। नालंदा एक बार फिर से देश को यह गौरव देगा।

वर्तमान में नालंदा विश्वविद्यालय यहां 13 से अधिक देशों के 130 छात्र अध्ययन कर रहे हैं। यहां इतिहास और पयार्वरण विज्ञान विषय की पढ़ाई पहले से हो रही थी। चालू सत्र में एक नया विषय बौद्ध अध्ययन, दर्शन और तुलनात्मक धर्म शुरु किया गया है।