अब डीजल अनुदान का लाभ बहुत ही कम समय में सीधे किसानों के बैंक खाते में – डाॅ॰ प्रेम कुमार

238
0
SHARE

बिहार के कृषि विभाग मंत्री डाॅ॰ प्रेम कुमार ने कहा कि सरकार ने किसानों को डीजल अनुदान देने के लिए नयी व्यवस्था की है। अब विभाग द्वारा प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डी॰बी॰टी॰) के माध्यम से किसानों को आवेदन करने के अधिकतम 25 दिनों के अन्दर ही डीजल अनुदान का भुगतान सुनिश्चित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि खरीफ, 2018 में अल्पवृष्टि के कारण सुखाड़ जैसी स्थिति को देखते हुए धान का बिचड़ा, जूट फसल, धान की रोपनी एवं रोपे गये फसल, मक्का एवं अन्य खरीफ फसलों को डीजल चालित पम्पसेट से पटवन करने के लिए सरकार द्वारा किसानों को डीजल अनुदान देने की व्यवस्था की गई है। डीजल अनुदान की राशि भी 35 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 40 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है।

किसानों को खरीफ फसलों की सिंचाई के लिए क्रय किये गये डीजल पर 40 रूपये प्रति लीटर की दर से 400 रूपये प्रति एकड़, प्रति सिंचाई डीजल अनुदान दिया जायेगा। यह अनुदान धान का बिचड़ा, जूट फसल की 2 सिंचाई के लिए 800 रूपये प्रति एकड़ तथा धान, मक्का अन्य खरीफ फसलों के अंतर्गत दलहनी, तेलहनी, मौसमी सब्जी, औषधीय एवं सुगन्धित पौधे की 3 सिंचाई के लिए 1200 रूपये प्रति एकड़ की दर से दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ आॅनलाईन पंजीकृत किसानों को ही दिया जायेगा। इसलिए किसान अपना आॅनलाईन पंजीकरण अवश्य करा लें।

उन्होंने बताया कि कृषि विभाग के पोर्टल पर किसानों के निशुल्क पंजीकरण का कार्य चल रहा है। एक बार पंजीकृत हो जाने पर किसान सभी प्रकार की योजनाओं का लाभ ले सकेगे। वैसे किसान, जिनका मोबाईल संख्या आधार से जुड़ा हो, वे घर बैठे स्वयं अपना आॅनलाईन पंजीकरण कर, डीजल अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं अथवा किसान, अपने नजदीकी कॉमन सर्विस केंद्र/सहज/वसुधा केंद्र से भी सम्पर्क कर निःशुल्क ऑनलाईन पंजीकरण कराने के साथ-साथ डीजल अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं। पंजीकरण अथवा आवेदन करने के लिए किसान सलाहकार, कृषि समन्वयक, प्रखंड कृषि पदाधिकारी अथवा जिला कृषि पदाधिकारी से भी संपर्क कर सकते है।

डाॅ॰ कुमार ने कहा कि जैसे ही किसान अपना आवेदन सबमिट कर देंगे, उसी समय आवेदन संबंधित कृषि समन्वयक को अग्रसारित हो जायेगा। कृषि समन्वयक 10 दिनों के अंदर आवेदन की जाँच कर अपनी अनुशंसा के साथ जिला कृषि पदाधिकारी को अग्रसारित कर देंगे। अगर आवेदन कृषि समन्वयकों द्वारा 10 दिनों के अंदर सत्यापित नहीं की जाती है तो यह समझा जायेगा कि आवेदन सही है और आवेदन जिला कृषि पदाधिकारी को स्वतः अग्रसारित हो जायेगी। अग्रसारित सभी आवेदनों की जाँच जिला कृषि पदाधिकारी 7 दिनों के अंदर करेंगे तथा उन्हें स्वीकृत कर राज्य सरकार को अग्रसारित करेंगे।

अगर जिला कृषि पदाधिकारी के द्वारा 7 दिनों के अंदर आवेदन राज्य सरकार को अग्रसारित नहीं की जाती है तो यह समझा जायेगा कि आवेदन सही है और स्वतः आवेदन स्वीकृत होते हुए भुगतान हेतु कृषि विभाग को अग्रसारित हो जायेगा। कृषि विभाग 2 दिनों के अंदर डीजल अनुदान के भुगतान की अनुशंसा बैंक को कर देगा। उन्होंने कहा कि बैंक को आवेदन भेजने के अगले दिन अनुदान की राशि किसान के खाते में चली जायेगी, जिसकी सूचना किसान को एस॰एम॰एस॰ के माध्यम से मिल जायेंगी। उन्होंने किसान भाई/बहन से अपील किया कि पर्याप्त वर्षा नहीं होने की स्थिति में डीजल चालित पम्पसेट से खरीफ फसलों की सिंचाई कर डीजल अनुदान का अधिक-से-अधिक लाभ उठायें।