अभी राजनीति के ककहरा सीखे तेजस्वी यादव- संजय सिंह

236
0
SHARE

पटना- जेडी(यू) मुख्य प्रवक्ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने कहा कि तेजस्वी यादव ने ये तो स्वीकार किया कि विकास हो रहा है। विकास में पक्षपात तेजस्वी यादव के राजनीति का हिस्सा होगा। नीतीश कुमार का विकास को लेकर केवल नज़रिया है – “हर बिहारी का विकास”। तेजस्वी डिप्टी सीएम रहे लेकिन ताज़्जुब है कि उनको 7 निश्चय की योजनाओं को पूरा करने की समय अवधि भी याद नहीं। धन्य है तेजस्वी यादव का राजनीति, उनको अपने उपमुख्यमंत्री काल के कुछ काम भी याद नहीं है। तभी तो सभी कहते है कि अभी राजनीति के ककहरा सीखे तेजस्वी यादव।

आरजेडी शासनकाल में तो नरसंहार होने के बाद भी तत्कालीन मुख्यमंत्री दलितों के बीच वोट की सियासत करने जाते थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महादलितों को तिरंगा फहराने के जो अवसर दिया उसकी भावना तेजस्वी यादव की समझ से परे है। नीतीश कुमार ने कभी दलित, महादलित को अपना वोटबैंक नहीं समझा। महादलितों के हक में काम किया। आज महादलितों के महादलित मिशन है जो उनके हक और अधिकार को उनतक पहुंचाता है।

नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार को बिहार की जनता ने चुना था। नीतीश कुमार का संकल्प विकास है, जिसे राज्य के अधिकारी ज़मीन पर उतार रहे। तेजस्वी, कार्यपालिका लोकतंत्र का हिस्सा है इतना ज्ञान तो रखिए। छोड़िये , जिसने अपनी स्कुल की पढाई ही पूरी ना की हो, उससे राजनीति शास्त्र के बारे क्या पूछना।

बेनामी संपत्ती के लिए तेजस्वी यादव का बलिदान दलित नहीं पूरा देश देख चुका है। तेजस्वी यादव का ये दलित प्रेम सत्ता सुख पाने की बेचैनी है। जिन्हें दलितों की फ़िक्र है वो जिलों में निरीक्षण कर रहे और आप 5 देशरत्न मार्ग में बैठे ब्लोअर की गर्मी ले रहे हैं। तेजस्वी यादव, पत्थर फेंकने से यदि सत्ता मिलती तो कश्मीर कब का आजाद हो गया होता। शर्म कीजिये और शांत रहिये, जनता ने सबकुछ देख लिया है ।