अमेरिका में ओबामा केयर की तरह यहाँ भी नमो केयर का विफल होना निश्चित है – सदानंद सिंह

120
0
SHARE

बिहार कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि मोदी सरकार की आयुष्मान भारत योजना का हश्र भी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना जैसा ही होगा| इस योजना का भी लाभ देश की गरीब जनता के बदले बीमा कंपनियों को होने वाला है| इसी वजह से इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने बजट में इसकी घोषणा के साथ ही इसका विरोध शुरू कर दिया था| उसके अध्यक्ष इस योजना को ‘जुमला’ तक करार दे चुके हैं|

सिंह ने कहा कि केंद्र करीब डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर खोलने जा रही है| लेकिन इसके लिए जितने बजट का प्रावधान किया गया है; उसके हिसाब से प्रति सेंटर को 80 हजार रुपये ही मिल पायेगा| एक सेंटर के लिए इतने कम धन के आवंटन में कैसे जनता को वर्ल्ड क्लास चिकित्सा सुविधा दी जा सकेगी; यह एक यक्ष प्रश्न ही है| ओबामा केयर का नक़ल करते हुए जिस ‘नमो केयर’ का प्रचार किया जा रहा है; उसके लिए देश में आधारिक संरचना विकसित ही नहीं की गई है| क्योंकि भारत में आज भी कैशलेस की अवधारण रफ़्तार नहीं पकड़ सकी है| अतः अमेरिका में ओबामा केयर की तरह यहाँ भी नमो केयर का विफल होना निश्चित है|

सिंह ने कहा कि जैसे किसानों को फसल बीमा की राशि सरकार के प्रीमियम भुगतान की तुलना में काफी कम प्राप्त हुई और इसका लाभ बीमा कंपनियों को मिला| उसी भांति आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना में भी गरीब रोगियों के बदले कंपनियों को ही लाभ चला जायेगा|