अरविन्द महिला कॉलेज में छात्राओं का प्रदर्शन

758
0
SHARE

निःशुल्क शिक्षा के आदेश को काॅलेज ने दिखाया ठेंगा, फूटा छात्राओं का गुस्सा, प्राचार्या के समक्ष किया प्रदर्शन, पुलिस छावनी में तब्दील हुआ अरविन्द महिला काॅलेज

पुलिसकर्मियों से तीखी झड़प, प्राचार्या ने एडमिशन रोका, 13 फरवरी को मुख्यमंत्री का घेराव।

पटना। पी॰जी॰ तक निःशुल्क शिक्षा के राज्य सरकार के आदेश को अरविंद महिला काॅलेज ने ठेंगा दिखाया है। पी॰जी॰ तक एडमिशन के वक्त किसी भी प्रकार का कोई शुल्क नहीं लिया जाना है। बावजूद काॅलेज प्रशासन ने मनमाने ढंग से पैसा वसूल कर लिया है। एडमिशन के वक्त लिए जा रहे पैसे पर रोक, लिए गए पैसों की वापसी एवं विभिन्न मदों में अन्य काॅलेजों से अधिक वसूली के खिलाफ आज आॅल इण्डिया स्टूडेन्ट्स फेडरेशन के बैनर तले छात्राओं का गुस्सा फूट पड़ा। छात्राओं ने प्राचार्या के समक्ष रोषपूर्ण प्रदर्शन किया।

आंदोलनकारी छात्राओं के गुस्से को देख प्राचार्या प्रो॰ उषा सिन्हा छात्राओं के बीच आयी। प्राचार्या से वार्ता के क्रम में ए॰आई॰एस॰एफ॰ के नेताओं ने कहा कि पी॰जी॰ तक नामांकन के वक्त जब कोई पैसा नहीं लिया जाना है तो पैसा क्यों लिया गया? तत्काल पैसा लिए जाने पर काॅलेज प्रशासन रोक लगाए और लिए गए पैसों को वापस करे। प्राचार्या ने कहा कि सरकार से पैसा जब मिलेगा तब छात्राओं को लौटा दिया जाएगा।

इससे छात्राएँ आक्रोशित होकर नारे लगाने लगी। प्रदर्शन की जानकारी पाकर कदमकुआँ थाना की पुलिस पहुँची। थानाध्यक्ष गुलाम सरवर ने ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य सचिव सुशील कुमार को पकड़ लिया और बाहर चलने को कहा। इसको लेकर तीखी बहस हो गयी। पुलिस ने जबरन ले जाने की कोशिश की जिससे छात्राएँ आक्रोशित हो छात्र नेता को पकड़ लिया और महिला पुलिस बुलाने की मांग करने लगी। अन्त में पुलिस को परिसर से निकलना पड़ा। छात्र-छात्राएँ वहीं धरने पर बैठ गई। इस दौरान काॅलेज गेट पर बड़ी तादाद में महिला एवं पुरुष पुलिसकर्मियों को बुला छावनी में तब्दील कर दिया गया।

चार घंटे के पश्चात प्राचार्या ने शिक्षकों से बैठक कर निर्णय लेने की बात कही। स्नातक द्वितीय और तृतीय खंड के नामांकन पर तत्काल रोक लगा दिया तथा मसले के निराकरण होने पर नया एडमिशन लेने एवं पैसा वापस करने की बात कही।

सोमवार को वार्ता के लिए छात्राओं को पुनः बुलाया गया है। वहीं 13 फरवरी को ए॰आई॰एस॰एफ॰ ने मुख्यमंत्री के समक्ष प्रदर्शन का एलान किया है।

प्रदर्शन में ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य सचिव सुशील कुमार, जे॰एन॰यू॰ छात्रा नेतृ राहिला, जिलाध्यक्ष पुष्पेन्द्र प्रणय, जिला सचिव सुशील उमाराज, जिला उपाध्यक्ष जन्मेजय कुमार, काॅलेज इकाई के अध्यक्ष पूनम खातून, सचिव आलमा खातून, सहसचिव खुशबू कुमारी, राखी कुमारी, उपाध्यक्ष अंकित राज, नीतू कुमारी, मधु कुमारी, पूजा कुमारी, नीशी कुमारी, प्रिती, अंजलि, नीलम, मोहिनी, भारती जी, तौसीक आलम, प्रशांत, सरिता कुमारी सहित सैकड़ों छात्राएँ उपस्थित रही।