अवैध उगाही मामला फिर एक बार सुर्खियों में

286
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिले की पुलिस बालू लदे गाड़ियों से अवैध उगाही करने के मामले में अक्सर सुर्खियों में रहती है। कुछ माह पहले भी कई थानों के पुलिस घूस लेते और बालू लदे ट्रैक्टर पकड़कर छोड़ने के मामले में तत्कालीन दुर्गावती थाना प्रभारी भी सस्पेंड हो गए। उसके बावजूद सबक लेने का काम नहीं कर रही है। सोशल साइट पर पुलिस का ट्रक मालिक से अंडर लोड बालू गाड़ी से पैसा मांगते एक ऑडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें कहा जा रहा है कि एक गाड़ी देर रात पौने एक बजे अंडर लोड बालू लेकर कैमूर जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र से गुजर रही थी तभी रामगढ़ थाना क्षेत्र के दैतरा बाबा के पास ड्यूटी में तैनात रहे दरोगा ने गाड़ी को रोककर पैसे का डिमांड किया। जब ट्रक ड्राइवर ने पैसा नहीं दिया तो जबरदस्ती पैसे की मांग कर रहे थे।

यह सब बात का रिकॉर्डिंग ट्रक के मालिक ने दरोगा से बात करते हुए कर लिया और उसने DM SP को रिकॉर्डिंग के साथ-साथ मेल भी करके शिकायत कर डाला।

ट्रक मालिक ने बताया कि डिहरी से बालू लोड करके आ रहे थे तभी रात्रि के एक बजे के आसपास ट्रक ड्राइवर ने फोन किया कि साहब पैसे मांग रहे हैं, मैंने गाड़ी को कांटा कराने और ओवरलोड होने पर जुर्माना ठोकने की बातें उनसे कही, लेकिन बार-बार वह कह रहे थे कि पहले आप लोग ओवरलोडिंग के समय जिस तरह इंट्री करा कर गाड़ियों को ले जा रहे थे ठीक उसी तरह आज भी कुछ दे करके ही ले जाना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि जब हम लोग गाड़ी नियम के अनुसार अंडर लोड चला रहे हैं तो फिर किस चीज का पैसा देंगे। मैं गुहार लगाता हूं ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्रवाई हो जिससे हम लोग वाहन मालिक नियम के अनुसार गाड़ियों का परिचालन कर सकें ।

वहीं कैमूर एसपी मोहम्मद फारेगुद्दीन ने बताया कि मेरे संज्ञान में मामला आया है। मोहनिया एसडीपीओ को जांच का जिम्मा दिया गया है। जो भी दोषी होगा बख्शा नहीं जाएगा। कार्रवाई होगी।

लगातार भ्रष्टाचार में संलिप्त होने के मामले उजागर होते रहे हैं। कोई भी सरकारी अधिकारी अगर भ्रष्टाचार में संलिप्त पाया जाता है तो उसके ऊपर प्राथमिकी दर्ज कर जेल भेजने का भी प्रावधान है। लेकिन कैमूर में एक दर्जन से अधिक पुलिस वालों के कुछ महीनों में सस्पेंड होने के बावजूद एक भी मामलों में अभी तक न तो गिरफ्तारी हो पाई है,और ना ही कोई कार्रवाई होती है। इसलिए बेहिचक बिना डरे हुए लोग खुलेआम पैसे लेते हैं, और कहते फिरते हैं आज सस्पेंड हो गए तो कल फिर कोई ना कोई थाने पर पोस्टिंग हो ही जाएगी तो फिर डरना क्या।