अस्पताल की लापरवाही ने ली एक महिला की जान

385
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा – बिहार के सदर अस्पताल सहरसा की लापरवाही एक बार फिर सामने आई है जहां प्रसव के लिए आई महिला की मौत यहां के डॉक्टर के लापरवाही के कारण हो गई वह भी 19 दिन बाद। दरअसल 18 जनवरी के दिन सदर अस्पताल सहरसा में प्रसव के लिए भर्ती कराया गया था जिसके बाद 19 जनवरी को ऑपरेशन किया गया पर क्या पता था रिंकी और उसके परिवार को डॉक्टर द्वारा ऑपरेशन तो किया गया पर ऑपरेशन के नाम पर मौत परोस दी गई।

मृतका रिंकी देवी सहरसा जिले की महिषी प्रखंड के तेलहर गांव की रहने वाली है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है ऐसे में इनकी माने तो 18 जनवरी को सदर अस्पताल सहरसा में भर्ती कराया गया जहाँ 19 जनवरी को मृतका का ऑपरेशन कर एक बेटे को जन्म दिया जिसका ऑपरेशन सदर अस्पताल में कार्यरत अमृता आनन्द ने किया। कुछ दिन बाद ही मरीज की हालत खराब होते गई जिसके बाद बार-बार डॉक्टर से मरीज की हो रही खराब स्थिति की बात कही गई। डॉक्टर द्वारा दवाई भी चलाई गई अल्ट्रासाउंड और एक्सरे भी कराया गया।

अल्ट्रासाउंड और एक्सरे रिपोर्ट आने के बाद डाक्टर अमृता आनंद जब रिपोर्ट देख अपनी की गई करतूत का खुलासा रिपोर्ट आने पर हुआ तो वो आनन् फानन में मरीज को 19 दिन तक ईलाज करने के बाद हालात में सुधार नहीं हुआ तो फीर जाकर 6 फरवरी को रेफर कर दिया गया और तब से डाक्टर भी सदर अस्पताल से अनुपस्थित है।

जिसके बाद मरीज को निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया।निजी अस्पताल में भर्ती होने के बाद परिजनों को सदर अस्पताल में की गई लापरवाही की बात सामने आई जो साफ तौर पर एक्सरे में देखा भी जा सकता है कि धागा नुमा चीज दिखाई दे रहा है जिसे निकाला ही नहीं गया जिस वजह से रिंकी देवी के शरीर में इन्फेक्शन हो गया और उनकी मौत हो गई।

वहीं इस बाबत सिविल सर्जन ने जाँच करवाने की बात कही है।