आओ सब मिलकर चलें स्वच्छता की ओर

266
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – बढ़ते बिहार एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सपना साकार करने के लिए कैमूर जिला अधिकारी डॉक्टर नवल किशोर चौधरी ने अनोखा पहल अपनाया। जिलाधिकारी नवल किशोर चौधरी ने लोहिया स्वच्छता अभियान के तहत कैमूर को 31 अगस्त तक ओडीएफ घोषित करने एवं बिहार में जिला का एक अपना स्थान बनाने के लिए बिहार के सुपौल जिले से कई अनुभवी लोगों को बुलाकर एक बैठक आयोजित की। जिसके तहत जिले के सभी पदाधिकारियों को जिले को खुले में शौच मुक्त करने एवम स्वच्छ कैमूर बनाने में मदद करेंगे।

वहीं जिलाधिकारी के द्वारा एक मोटरसाइकिल एवं वाहन रैली निकालकर भभुआ से भगवानपुर, चैनपुर, चांद, दुर्गावती एवं मोहनिया प्रखंड के लिए रवाना हुआ। जिलाधिकारी के इस रैली में जिले के उप विकास आयुक्त, SDM एवं सीनियर डिप्टी कलेक्टर के साथ-साथ सभी प्रखंडों के बीडीयो ने भी भाग लिया।

रैली को रास्ते भर कैमूर वासियों एवं विद्यालय के बच्चों का भरपूर सहयोग मिला। साथ ही इस पहल से सभी कैमूर वासी एवं बच्चे बहुत खुश दिखे।अनोखा पहले रहा कि जिलाधिकारी के वरीय डिप्टी कलेक्टर तालियां बजा बजा कर बच्चों एवं लोगों को स्वच्छता अपनाये एवम घर आंगन में खुशियां लाएं एवं अन्य नारों के साथ जागरुक करते रहे।

वही कैमूर वासियों ने जगह-जगह जिलाधिकारी को फूल माला पहनाकर स्वागत करते नजर आए। जिलाधिकारी नवल किशोर चौधरी ने कहा कि हम लोग लोहिया स्वच्छ अभियान के तहत जिला के सभी पदाधिकारी साथ में आज 5 प्रखंडों का भ्रमण किया जाएगा। सभी जिले के जनप्रतिनिधियों, लोगों से मिलकर स्वच्छता के बारे में सब को जागरुक किया जाएगा। जिससे बहुत जल्दी जिले को खुले में शौच से मुक्त किया जाए।

उन्होंने कहा कि हमारे सारे पदाधिकारियों और अधिकारियों ने 31 अगस्त तक लक्ष्य को पूरा करेंगे। हमें विश्वास है कि इस लक्ष्य को हम लोग जल्दी पूरा करेंगे। राज्य टीम को हम धन्यवाद देना चाहेंगे कि उनके द्वारा सहयोग से कुछ टीम को भेजा गया है। हम उनके सहयोग से जल्दी खुले में शौच मुक्त कैमूर बनाएंगे। कुछ टीम बाहर से आई हुई है जो एक्टिव है। सुपौल से आई हुई है काफी कामयाब है। आज हम लोग 5 प्रखंडों में दौरा करेंगे और लोगों से मिलते हुए शाम में 6 बजे मोहनिया पहुंचेंगे। वही स्कूल के बच्चों में भी ज्यादा जागरूकता दिखी।

बच्चों ने बताया कि हम सब आ रहे हैं घर में शौचालय बनेगा हम लोग खुले में जाते थे अब खुले में जाने से मुक्त रहेंगे। वही शिक्षिकाएं भी DM की इस पहल की सराहना की।