आत्महत्या या साजिश ?

2580
0
SHARE

हाजीपुर- सेना के एक जवान का शव उसके ही घर अंदर चादर से झूलता हुआ मिला। परिवार वालों को उसके मौत पर संदेह है, क्योंकि सेना का जवान इतना कायर नहीं हो सकता। मगर उसके कमरे से जो सबूत पुलिस के हाथ लगे है उससे यही लगता है कि उसने आत्महत्या किया है।

उसके गले पर गहरा निशान पाया गया है। कुछ लोग उसके मौत को प्रेम-प्रसंग के रूप में भी देख रहे है। बलिगांव थाना के भरतीपुर गांव का यह मामला है। सेना का जवान अनिल कुमार झारखण्ड के राँची में पोस्टेड था। कुछ दिन पहले ही छुट्टी लेकर घर आया था। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

WhatsApp Image 2017-10-10 at 4.49.17 PM

WhatsApp Image 2017-10-10 at 4.49.18 PM

कृष्ण को अंतरजातीय विवाह करना पड़ा महंगा

फेसबुक पर कृष्ण कुमार साव ने एक मैसेज फोटों के साथ पोस्ट किया था। जिसमें लिखा है कि ये मेरी पत्नी है। जिसका नाम सुप्रिया शुभम है। हम दोनों ने लव मैरिज शादी किया है। सुप्रिया के भाई मनोज कुमार ने अपनी बहन को बहला फुसलाकर घर लेकर चला गया। घर जाने के बाद से मेरी पत्नी को नजरबन्द कर दिया गया है। हम दोनों की जाती अलग है, मैं तेली हूँ और सुप्रिया कुशवाहा हैं। अब सुप्रिया का भाई मनोज कुमार अपनी बहन की शादी अन्य जगह करना चाहता है।

IMG-20171010-WA0182

जब हमने इस घटना के बारे में जानने की कोशिश कि तो कृष्ण कुमार के पड़ोसी ने बताया कि ये दोनों करीब 10 से 15 दिन पहले ही समस्तीपुर में शादी कर लिए थे। लड़की के भाई ने कोर्ट में फौजी कृष्ण के खिलाफ केस दर्ज करवाया था। जबकि दोनों बालिग है। और दोनों अपनी मर्जी से शादी कि थी। लड़की के माँ भाई और परिवार के लोगों को रोते देख कृष्ण ने लड़की को उनके मां के पास पहुंचा दिया था। लड़की के मायके जाने के बाद उसके परिवार ने सुप्रिया को घर में नजरबन्द कर दिया। न ही मोबाइल से बात करने देते और न ही कृष्ण से मिलने दे रहे थे। दो दिन पहले कृष्ण ने फेसबुक पर अपनी सारी व्यथा को पोस्ट किया था।

IMG-20171010-WA0181

पड़ोसी से बात होने पर पता चला कि कृष्ण की मौत की खबर सुनते ही इलाके में सनसनी फैल गई। पड़ोसी ने बताया कि कृष्ण शांत स्वभाव का लड़का था। गांव में बहुत बढ़िया क्रिकेट भी खेलता था। गांव के हर कार्यक्रम में बहुत बढ़-चढ़कर भाग लेता था। जबकि कृष्ण के बड़े भाई भी फौज में है। लेकिन वह मुजफ्फरपुर में रहते है। कृष्णा अपने गाँव भरतीपुर बलिगांव में रहता था। अपनी बूढ़ी मां और पिता के साथ। कृष्ण की मौत का खबर मिलते ही पिता औऱ भाई बेहोश हो गए। जिनको इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया है। इस मौत से पुरे इलाके के लोगों में शोक और गुस्सा भी है।