आधुनिकता के दौर में पसरता अंधविश्वास

437
0
SHARE

समस्तीपुर: बिहार के समस्तीपुर में लोग आधुनिकता के दौर में भी अंधविश्वास हावी है। इस आधुनिक युग में लोग जहां लोग बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टरी सलाह और मेडिकल साइंस का सहारा लेते है लेकिन समस्तीपुर अस्पताल में अंधविश्वास का सहारा लिया जाता है।

इस अस्पताल में दूर दराज गांव से आने वाले मरीजों को पहले तो झांसे में लिया जाता है फिर इलाज के नाम पर मछली की हड्डी बांधी जाती है। सबसे हैरानी की बात तो यह है कि ये खेल अस्पताल कैंपस में ही चलता है और वो भी डॉक्टरों के नजर के सामने।

शरीर के चाहे किसी भी हिस्से में दर्द हो मछली की हड्डी को बांधने के बाद मरीजों को खाने के लिए एक दवा दी जाती है जिसे लेने के आधे घंटे के भीतर दर्द खत्म होने का दावा किया जाता है।

अस्पताल परिसर में दवा वेचने वाले युवक का कहना है कि क्वाट मछली की रीढ़ की हड्डी होती है जिसे शरीर पर बांधने के बाद किसी भी तरह का दर्द ठीक हो जाता है। सदर अस्पताल में चल रहे इस खेल पर डॉक्टर ने भी इसे अन्धविश्वास करार दिया। अस्पताल के अंदर चल रहे अन्धविश्वास के इस खेल पर भी जागरूक मरीजों ने अविलंब कार्रवाई करने की बात कही।