धर्मशाला में बम ब्लास्ट मामले में आरा पहुंची एटीएस की टीम

407
0
SHARE

आरा- आज सुबह जब पूरा आरा शहर नींद में सोया था तभी एक तेज आवाज ने पूरे शहर की नींद उड़ा दी। अभी तो लोग अपने-अपने काम में मशगुल भी नहीं हुए थे की आरा के नगर थाना क्षेत्र अंंतर्गत हरखेंन कुमार धर्मशाला में अचानक तेज आवाज ने पूरे शहर की नींद उड़ा दी धर्मशाला जो आरा शहर के पॉश इलाके में स्थित है। वहां के अगल- बगल के स्थानिय और लोग और सुबह में मॉर्निग वॉक पर निकले लोग सहम गए। उन्हें सिलेंडर फटने जैसी आवाज लगी, आवाज सुन सब दौड़े लगा जैसे कोई अनहोनी हुई होगी, आवाज बहुत तेज थी।

लेकिन जब लोग वहां पहुंचे तो पता चला कि सिलेंडर नहीं यहां तो बम फटा है, जिस कमरे में यह बम फटा उसका मेन गेट का परखच्चा
उड़ गया था। जिसमें आत्मघाती हमलावर बुरी तरह घायल हो गया। तब वहां पहुंचे लोग ने पुलिस को फोन कर सारी बात बताई। पुलिस को जैसे ही इसकी सूचना मिली पूरे पुलिस प्रसाशन में हड़कंप मच गया। चश्मदीद लोगों को कहना है कि यह घटना सुबह 6 बजे के करीब हुआ हैं। लोगों का कहना है की धर्मशाला के मालिक बिना किसी पहचान पत्र के लोगों को ठहराया करते थे।

पुलिस ने घायल से पूछताछ की तो पता चला की वह बहुत बड़े मंसूबे काम को अंजाम देने आए थे। कोलकाता से वे लोग विभुती एक्सप्रेस से आए थे। जाँच के दौरान उसके रूम से पिस्टल भी बरामद हुआ है। आत्मघाती हमलावर को सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया लेकिन उसके हालत को देखते हुए पटना के पीएमसीएच लाया गया। पुलिस ने बताया कि जो बम फटा है वह लो डेनसिटी का था। हरखेंन कुमार धर्मशाला में हुए बम ब्लास्ट में तीन अपराधी मौके से हुए फरार। घायल अपराधी को पीएमसीएच रेफर किया गया। सारे अपराधी बंगाल के हैं लेकिन एक अपराधी आरा का जो बंगाल में रहता है।

सूत्रों से पता चला है कि ये अपराधी बैंक लूटने के इरादे से कोलकाता से सुबह विभूति एक्सप्रेस से आरा आये थे। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। कमरे से पिस्टल और आधार कार्ड बरामद किया गया है। अभी जिस रूम में बम फटा है उसमें किसी को जाने नहीं दिया जा रहा है और पटना से बम स्क्वायड को बुलाया गया है क्योंकि उस कमरे में एक बैग पड़ा है उसमें क्या है अब बम स्क्वायड के आने के बाद ही पता चलेगा। वहीं पटना के आइजी का कहना है की इस मामलें पर अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी मामले की जांच की जा रही है, एफएसएल की टीम घटना स्थल के लिए रवाना हो गई है। यह कोई अपराधिक गिरोह की संलिप्ता हो सकती है। घटना स्थल पर पहुंची मीडीया ने जब पुलिस से सवाल किये तो पुलिस ने अपनी नाकमी छुपाने के लिए कई पत्रकारों के मोबाइल फोन तोड़ दिए। आरा-बम ब्लास्ट मामले में पुलिस ने जितेंद्र नाम के युवक को किया गिरफ्तार, आरा स्टेशन के पास से हुई गिरफ्तारी। जितेंद्र के नाम बुक हुआ था रूम। पुलिस का कहना है कि मौके पर उसका आधार कार्ड छूट गया था। धर्मशाला में बम ब्लास्ट मामले में आरा पहुंची फोरेंसिंग और एटीएस की टीम।