इनके जीवन की कोई कीमत नहीं !

418
0
SHARE

सहरसा (मुकेश कुमार सिंह): शहर के सिमराहा स्थित बालिका गृह में रह रही एक 16 वर्षीय किशोरी चंदा कुमारी की मौत हो गई है जबकी एक किशोरी का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। बताया जाता है कि एक माह के दौरान यह दूसरी मौत है।

IMG-20170209-WA0023_1486646254861बालिका गृह में बच्चीयों की लगातार मरने की घटना से एक सवालिया निशान अब उठने लगा है। एक तरफ चंदा का शव महिला वार्ड में एक बेड पर लावारिस हालत में पड़ा था तो वहीं दूसरे बेड पर निभा नामक युवती ठंड से ठिठुर रही थी। इसे देखने के लिए बालिका गृह के कोई कर्मी उपस्थित नहीं थे। काफी इंतजार के बाद एक महिला कर्मी को मोबाइल पर बात करते देखा गया। पूछने पर उसने अपना नाम शालिनी बताया।

उसने कहा कि मैंने हाल ही में उक्त गृह में एएनएम के पद पर योगदान दिया है। उसने बताया कि सिमराहा स्थित बालिका गृह में कुल तीस बच्चियां है जिसमें 15 बच्ची विभिन्न रोग की शिकार हैं। गुरूवार की सुबह उक्त बालिका का पोस्टमार्टम करवाया गया। शहर के बम्फर चौक स्थित बाल गृह के दो बालक भी इलाज के लिए सदर अस्पताल में जीवन और मौत से जूझ रहे हैं।