इस विश्वविद्यालय की 15 हजार डिग्रियों पर संदेह, चल रही जांच

677
0
SHARE

भागलपुर: बिहार के भागलपुर स्थित तिलकामांझी विश्वविद्यालय अंतर्गत आने वाले सात जिलों में बड़े पैमाने पर स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति हुई है। नियुक्ति की प्रक्रिया जारी है। राज्य सरकार को इस विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्रियों पर नियुक्ति की लगातार शिकायतें मिलती रही हैं। शिकायतों के मद्देनजर राज्य सरकार ने निगरानी अन्वेषण ब्यूरो को जांच करने का निर्देश दिया है।

किसी विश्वविद्यालय की 15 हजार डिग्रियां संदेह के घेरे में आ जाएं तो निश्चित तौर पर यह गंभीर बात है। ऐसा हुआ है तिलकामांझी विश्वविद्यालय के साथ। निगरानी अन्वेषण ब्यूरो के निर्देश पर इसकी 15 हजार डिग्रियों की जांच चल रही है। बताया जाता है कि डिग्रियों व अंक पत्रों की जांच के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने आधा दर्जन कर्मियों को लगाया है।

इसके बाद निगरानी की देखरेख में विश्वविद्यालय के कर्मचारी डिग्रियों की जांच कर रहे हैं। निगरानी के अफसरों के अनुसार भागलपुर, बांका, मुंगेर, लखीसराय, जमुई, शेखपुरा व खगड़िया जिले में नियुक्त शिक्षकों की डिग्रियों की जांच चल रही है। अभी विशेष रूप से बांका जिले के शिक्षकों की जांच की जा रही है। इस क्रम में अंकपत्र व टेबुलेशन रजिस्ट्रर में मिलान किया जा रहा है। जांच में सही पाए जाने वाले अंक व प्रमाण पत्र को ओके कर निगरानी विभाग को भेजा जा रहा है।