उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही महापर्व छठ का समापन

724
0
SHARE

पटना: चार दिन तक चलने वाले लोक आस्था का महापर्व छठ का उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही छठ का समापन हो गया। समापन हो गया है। सोमवार सुबह पटना में गंगा के घाट पर जनसैलाब उमड़ पड़ा। हल्की ठंड के बीच व्रतियों ने गंगा के पानी में उतरकर भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया।

सोमवार को सुबह से ही पानी में उतरकर व्रती सूर्य उदय का इंतजार कर रहे थे। जैसे ही सूर्योदय हुआ छठव्रतियों और श्रद्धालुओं के चेहरे पर खुशी आ गई। उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठव्रतियों ने घाटों पर ही पारन किया और फिर 36 घंटे का निर्लजा उपवास तोड़ा।

सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठव्रतियों ने इस मौके पर वहां मौजूद लोगों को प्रसाद भी दिये। ऐसी मान्यता है कि प्रसाद खाने वाले को भी छठी मईया और भगवान सूर्य का आशीर्वाद मिलता है। वहीं, प्रसाद बांटने वाले को भी छठी मइया की कृपा मिलती है।

इससे पहले रविवार शाम समूचे बिहार में गंगा एवं अन्य नदियों तथा जलाशयों के किनारे बने घाटों पर लाखों श्रद्धालु सूर्य की उपासना के लिए जुटे। पटना में व्रत रखने वाले पुरूष एवं महिलाएं गंगा के घाटों पर जमा हुए और कमर तक पानी में खड़े होकर डूबते सूर्य की आराधना की।

अपने आराध्य देव को ठेकुआ, फलों, गन्ना और नारियल का अर्घ्य देने के दौरान छठ व्रतियों के परिवार के सदस्य एवं रिश्तेदार उनकी सहायता करते दिखे।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंत्रियों एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नासरीगंज से गायघाट तक मोटरबोट के जरिए घाटों का जायजा लिया और राज्य की खुशहाली के लिए व्रतियों से आशीर्वाद लिया।

मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास 1, अणे मार्ग पर छठ पूजा का आयोजन किया गया है जहां नीतीश कुमार की भाभी व्रत रख रही हैं। बहरहाल यह पूजा व्यक्तिगत ही थी।