उच्च न्यायालय की टिप्पणी सरकार की विफलता का प्रतीक – सदानंद सिंह

138
0
SHARE

पटना- बिहार कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि नागरिक सुविधाओं के अभाव में पटना उच्च न्यायालय द्वारा की गयी तल्ख़ टिप्पणी सरकार की प्रशासनिक विफलता का प्रतीक है| दो सदस्यीय माननीय खंडपीठ ने सही कहा है कि ‘पटना देश का सबसे गंदा शहर है|’ जहाँ जल निकासी, नाला/नाली, सीवर, कचरा प्रबंधन, यातायात आदि कोई भी नागरिक सुविधा व्यवस्थित नहीं है| जनता गंदगी, जलजमाव, अतिक्रमण, सड़क जाम आदि समस्याओं के बीच जीवन यापन को मजबूर है|

सिंह ने कहा कि पटना समेत बिहार के लगभग सभी शहरों में सामान्य नागरिक सुविधाओं का घोर अभाव नजर आता है| जाम की वजह से लोगों का सड़कों पर निर्विघ्न चलना मुश्किल हो गया है| पटना – मोकामा हाईवे का जाम आम बात हो गई है| शहरों को गंदगी, नाला-नाली, अतिक्रमण, कचरा आदि की समस्या से मुक्त करने के लिए सरकार की कोई कार्य योजना जमीन पर नहीं दिखती है|

विभाग सफाई देते हैं कि धन की कोई कमी नहीं है| तो फिर कमी है कहाँ? इस कमी को दूर करेगा कौन? सिंह ने कहा कि जनता के लिए पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की भावना का सम्मान किया जाना चाहिए| बिहार सरकार को नागरिक सुविधाओं के प्रति उनकी नाराजगी को यथाशीघ्र दूर करने के लिए अविलम्ब सक्रीय होना चाहिए|