“एक दीया शहीदों के नाम” कार्यक्रम के अंतर्गत वीर शहीदों को दीप जला मार्तण्ड फाउंडेशन द्वारा श्रद्धांजलि दी गई

297
0
SHARE

पटना- मार्तण्ड फाउंडेशन द्वारा “एक दीया शहीदों के नाम” कार्यक्रम के अंतर्गत वीर शहीदों को पटना गाँधी मैदान स्थित कारगिल चौक पर पुष्प अर्पण और दीप जला कर श्रद्धांजलि दी गई। विधायक नितिन नवीन, समाजसेवी अजित कुमार शुक्ला, वनबिहारी तिवारी, आशुतोष मिश्र, शशिकान्त मिश्र, महिला सामाजिक कार्यकर्ता कुसुम मिश्रा उर्फ गायत्री मिश्रा सहित संस्था के संरक्षक भूतपूर्व सैनिक धनञ्जय मिश्र, अध्यक्ष मुकुन्द वत्स, महासचिव मयंक कुमार मिश्र सहित बड़ी संख्या में भूतपूर्व सैनिक एवं आम लोगों ने हिस्सा लिया।

संस्था के अध्यक्ष मुकुन्द वत्स ने इस अवसर पर कहा कि “राष्ट्र को जिंदा रखने के लिए असंख्य वीर शहीदों ने कुर्बानियां दीं और नित कुर्बानियां दे रहे हैं। ये कुर्बानियाँ कब तक??

पाकिस्तान द्वारा कश्मीर में प्रायोजित छद्म युद्ध पर विशेष रूप से उन्होंने कहा कि हम कब तक इसे सहते रहेंगे? किसी भी युद्ध से ज्यादा सैनिक इस छद्म युद्ध में शहीद हुए। जिस ज़मीन पर हमारे इतने सैनिकों ने अपनी जान की बाज़ी लगा दी, धारा 370 के कारण हमारा पूरा संविधान भी वहाँ लागू नहीं होता। ऐसे में इस विशेष अवसर पर भारत सरकार और हमारे राष्ट्रपति दोनों से इस धारा 370 को हटाकर कश्मीर को सम्पूर्ण भारत के साथ एक रंग में रंग दें।WhatsApp Image 2017-10-18 at 6.50.45 PM

इस दीपोत्सव पर जब पूरा राष्ट्र रोशनी से जगमग होगा उस समय हमारा फर्ज है कि देश पर कुर्बान होने वाले अमर जवानों के परिवार में अंधकार में न हों हम सभी उनके साथ हैं।”

संस्था के सचिव मयंक मिश्र ने कहा “हम अपने सैनिकों की कुर्बानी कब तक देंगे? सरकार को पाकिस्तान समर्थित अलगाववादियों और आतंकवादियों से सख्ती से निपटना चाहिए। हम सभी भारतीयों से अपील करते हैं जहाँ तक हो सके चीनी सामानों का विरोध किया जाए क्योंकि चीन पिछले दरवाजे से पाकिस्तान की मदद कर रहा है और पाकिस्तान अपने हर मदद द्वारा आतंकवादियों को ही सींचता है।
WhatsApp Image 2017-10-18 at 6.50.49 PM

हम अपने सैनिकों के साथ डटे हैं और सभी से अपील करते हैं कि सैनिक राहत कोष में सभी भारतीय कम से कम 10 रुपये ही सही पर जरूर डालें ” भूतपूर्व सैनिक धनञ्जय मिश्र ने कहा “ऐसे कार्यक्रमों से सैनिकों का उत्साह बढ़ता है। ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन होते रहना चाहिए।”