एक बिहारी द्वारा रचित प्रेम कविता…

2289
0
SHARE

लबरी तेरे प्यार में

लबरा हो गए हम….
माई कसम ई धूप में बैठे बैठे
चितकबरा हो गए हम.