एक बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज, बेटा बन दिया अर्थी को कन्धा

552
0
SHARE

जहानाबाद- पुरानी सिविल लाइन के पीछे एक बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज। सिविल कोर्ट में कार्यरत विनोद कुमार की मौत ब्रेन हेमरेज के कारण इलाजरत पीएमसीएच में बुधवार की दोपहर में हो गयी। मगर उनके कोई लड़का नहीं होने के विनोद की दोनों बेटी ज्योति कुमारी, सुरुचि कुमारी ने निभाया बेटे का फर्ज। उनकी लाश बुधवार से गुरुवार तक उनके घर में रखा रहा मगर कोई उनको चार कंधे देने नहीं आया।

मामला का पता चलते ही किड्स गार्डन स्कूल के प्राचार्य प्रवीण कुमार कुछ लोगो के साथ वहां पहुंचे एवं इसकी सूचना उनके वार्ड पार्षद को दी। तब जाकर स्कूल संचालक एवं वार्ड पार्षद के पति राजीव कुमार, बाड़ू यादव के सहयोग से उनकी बेटी या कंधे देकर गौरी घाट तक के गई, जहां उनकी बेटी ने मुखाग्नि अर्पित की।

बताते चले की बिनोद कुमार सिविल कोर्ट में कर्मचारी के रूप में कार्यरत थे एवं जहानाबाद के पुरानी सिविल कोर्ट के पीछे अपने परिवार के साथ रहते थे। इन्हे घाट तक ले जाने में किड्स गार्डन स्कूल के प्राचार्य प्रवीण कुमार, वार्ड पार्षद पति राजीव कुमार, बाड़ू यादव, अमरनाथ सोनार, आर्मी जवान अजय कुमार यादव उर्फ़ मंझला ने उनकी बेटी को मदद किया।