एनआईए की टीम के जहानाबाद पहुंचने पर शहर में फिर से चर्चाओं का बाजार गरम

301
0
SHARE

जहानाबाद- बोधगया में विस्फोट की साजिश रचने में जहानाबाद के तार जुड़ने की जांच को लेकर जांच एजेंसी एनआईए के डीआईजी रैंक के पदाधिकारी ने अपनी टीम के साथ जहानाबाद में मंगलवार को दश्तक दी। जहानाबाद एसपी मनीष कुमार ने बताया कि सीनीयर आईपीएस अधिकारी के साथ एनआईए की टीम आई थी। टीम से जुड़े पदाधिकारियों ने शहर के रामनगर कुतुबनचक मोहल्ले में उस कमरे की गहन पड़ताल की है, जहां आतंकी फेरीवाले बनकर एक माह तक रुके थे।

एनआईए टीम ने उसी मुहल्ले के उन दोनों से युवकों से भी पूछताछ की है, जिनके मदद से वे लोग किरायदार के रूप में कमरा लिया था। इसके अलावा आसपास के लोगों से भी कई अहम जानकारी ली गई है। इधर, एनआईए की टीम के जहानाबाद पहुंचने पर शहर में फिर से चर्चाओं का बाजार गरम हो गया। कुतुनचक में जांच टीम के पहुंचते ही मोहल्ले फ़िर से तरह तरह के कयास लगाने लगे। लोग फिर से सहम उठे। लोग यहां बताते चले कि हो कि बोधगया विस्फोट की साजिश में जुटी एनआईए की टीम को सीसीटीवी फुटेज से जहानाबाद से तार जुड़ते नजर आये ।

विस्फोट की साजिश रचने वाले 5 आतंकी जहानाबाद में ही ठहरे थे। इसी कड़ी में आधार पर बीते शुक्रवार को एनआईए की टीम ने दो स्थानीय युवक मो. रिजवान और मो. सद्दाम से पूछताछ की थी। हालांकि पूछताछ के बाद दोनों युवकों को छोड़ दिया गया था। पूछताछ के क्रम में ही जांच टीम को यह जानकारी मिली थी कि संदिग्ध आतंकी कपड़े का व्यापारी बनकर यहां आए थे और यहां पनाह लेने के लिए किराये पर एक कमरा लिया था। स्थानीय युवकों से उमर और इक़बाल ने दोस्ती बढ़ाकर उन लोगों ने कमरा लिया और बाद में 3 लोग और रहने लगे थे। तकरीबन एक माह रहने के बाद वह लोग यहां से एक मुहल्ले के किराना दुकानदार को चाबी देकर फरार हो गए थे।