ओवरलोडिंग पर शिकंजा

630
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिला अधिकारी ने इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम के तहत ओवरलोडिंग करने वाले ट्रकों पर कार्रवाई करना प्रारंभ किया। वहीं ओवरलोडिंग करने वाले माफियाओं ने अपनी ट्रक के नंबर को किसी और का नंबर और बाइक का नंबर या टेंपो का नंबर लगा कर टोल टैक्स को पार करने लगे ई-चालान से बचने के लिए।

जब यह मामला प्रकाश में आया तो जिलाधिकारी ने इस पर त्वरित कार्रवाई करने का जिला परिवहन पदाधिकारी सहित आरटीओ mvi को आदेश जारी कर दिया। यदि कैमूर जिला में कोई भी ट्रक मालिक या ड्राइवर अपने गाड़ी ओवर लोडिंग कर बिना नंबर या गलत नंबर प्लेट लगाए हुए पकड़ में आए तो उस ट्रक मालिक पर होगी प्राथमिकी और ड्राइवर जाएगा जेल।

जिलाधिकारी ने बताया इलेक्ट्रॉनिक चालान के तहत कैमूर जिला में लगभग 6 करोड़ का फाइन हुआ था, जिसमें 5 करोड़ का फाइन लोगों ने जमा भी कर दिया और कर भी रहे हैं। लेकिन जो लोग इस तरह की जालसाजी कर रहे हैं उनपर जिला प्रशासन कड़ी निगाह रखे हुए है।

वहीं जिलाधिकारी ने बताया कि कुछ ट्रक मालिकों द्वारा ट्रको को लगातार ओवर लोडिंग में चलना पसन्द कर रहे है, उस तरह के लोगों के ट्रक को जो एक बार या उससे अधिक बार ओवर लोडिंग में पकड़ा रहा है उन ट्रकों के परमिट को कैंसिल करने के लिए कार्रवाई जारी है। लगभग 2 सौ ट्रको के परमिट कैंसिल करने के लिए परिवहन आयुक्त को यूपी सहित कई राज्यों के परिवहन आयुक्तों को उनका नंबर भेजा जा चुका है। उनके नेशनल परमिट को कैंसिल करने के लिए ताकि गाड़ियां कहीं भी माल को ढो न सके।

गाड़ियों का परमिट कैंसिलेशन करने के लिए जिलाधिकारी ने सभी राज्य के परिवहन आयुक्तों को लिखा लेटर। वहीं ओवरलोडिंग को पूरी तरह से ध्वस्त करने के लिए प्रशासन ने अपनी कमर कस ली है। जिलाधिकारी के आदेश पर जिला परिवहन विभाग अभियान चलाकर निरंतर ई-चालान कर रहे है। ई-चालान करने के बाद सभी ट्रको के मालिकों को हर हाल में फाइन जमा करना ही होगा तभी उन ट्रकों के कागजात बन पाएगा।