कंगारू मदर केयर इकाई शिशुओं के लिए होगी संजीवनी साबित

176
0
SHARE

पटना – मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर करने के लिए गुरु गोविन्द सिंह अस्पताल में नयी सुविधाएं बहाल की गयी। जिलाधिकारी कुमार रवि ने बुधवार को गुरु गोविन्द सिंह अस्पतालमें मातृ एवं शिशु केयर इकाई की शुरुआत कर बेहतर मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य की नींव रखी। इस मातृ एवं शिशु केयर इकाई में कंगारू मदरकेयर इकाई, आधुनिक प्रसव शल्यकक्ष, प्रसव उपरांत देखभाल इकाई एवं प्रसव प्रतीक्षा कक्ष शामिल है।

इस अवसर पर जिलाधिकारी कुमार रवि ने चिकित्सकों तथा कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा मातृ एवं शिशु केयर इकाई की शुरुआत होने से अस्पताल में मातृ एवं नवजात स्वास्थ्य सुविधा में गुणात्मक सुधार आएगा तथा मातृ व शिशु मृत्यु दर में कमी लाने में सहायता मिलेगी. उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा कमरों में पड़े बेकार वस्तुओं का निष्पादन तथा फलस्वरूप रिक्त हुए कमरों का स्वास्थ्य सेवाओं में उपयोग करना स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने में उठाया गया एक सशक्त कदम है। इससे उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम इस्तेमाल किया जा सकता है। साथ ही जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता को आसानी से सुनिश्चित भी किया जा सकता है।

कंगारू मदर केयर इकाई से शिशु स्वास्थ्य होगा बेहतर :

अल्प वजनी एवं अविकसित शिशुओं को विशेष देखभाल प्रदान कराने के उद्देश्य से कंगारू मदर केयर इकाई की शुरुआत की गयी है। इसकी शुरुआत होने से कम वजन एवं निर्धारित समय से पहले जन्म लिए बच्चों में होने वाले शिशु मृत्यु दर में कमी आएगी। विशेषज्ञ चिकित्सकों की देखरेख में इस इकाई का संचालन किया जाएगा।

प्रसवशल्य कक्ष में उपलब्ध होगी आधुनिक सुविधाएं:

बेहतर प्रसव शल्य सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में आधुनिक प्रसव शल्य कक्ष का निर्माण किया गया है। इसमें जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है। इससे शल्य प्रसव की गुणवत्ता में बढ़ोतरी होगी एवं मातृ मृत्यु दर में भी कमी आएगी।

बेहतर प्रसव पूर्व एवं प्रसव उपरांत सुविधा हुई बहाल :

गर्भवती महिलाओं को प्रसव कक्ष में ले जाने से पहले कभी-कभी अस्पताल में इंतजार भी करना पड़ता है। ऐसी स्थिति में अलग से वेटिंग कक्ष उपलब्ध नहीं होने से महिला को दिक्कत होती है। इसको ध्यान में रखते हुए लेबरवेटिंग कक्ष का निर्माण किया गया है। साथ ही प्रसव उपरांत कम से कम 48 घंटे महिला को चिकित्सक की देखभाल में रहने की हिदायत दी जाती है। इसके लिए अस्पताल में प्रसव उपरांत देखभाल कक्ष की भी शुरुआत आज की गयी। इससे महिलाओं को विशेषज्ञ चिकित्सकों की देखरेख में रहकर बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध हो पाएगी।

इस अवसर पर जिला के सिविल सर्जन डा.राजकिशोर चौधरी, अस्पताल प्रबंधक शब्बीर खान,स्वास्थ्य जिला प्रोग्राम पदाधिकारी विवेक सिंह,केयर के मानसून मोहंती तथा अस्पताल के चिकित्सक व कर्मचारी मौजूद थे।