काटजू को आयी सद्बुद्धि, बिहार वासियों से मांगी माफी

454
0
SHARE

पटना: भारत के जाने माने सुप्रीम कोर्ट के अवकाशप्राप्त जज मार्कंडेय काटजू ने बुधवार की शाम को बिहार के लोगों से माफी मांगी। उन्होंने कहा कि बिहारियों का काफी सम्मान करता हूं। उन्होंने बिहार जिंदाबाद का नारा भी लगाया। मार्कंडेय काटजू ने कश्मीर के साथ बिहार को पाकिस्तान को सौंप देने का मजाकिया ऑफर देने वाले बयान पर माफी मांगी है।

काटजू ने बुधवार को अपने ट्वीटर संदेश में कहा कि ‘बिहार के संदर्भ में मैंने महज मजाक किया था। लेकिन मेरे इस मजाक से यदि किसी की भावना को ठेस पहुंचा है तो इसके लिए मैं क्षमा प्रार्थी हूं। मैंने एक न्यूज चैनल को दिए साक्षात्कार में भी ये बातें कहीं हैं। मुझसे गलती हुई है। बिहार की धरती ने गौतम बुद्ध, चंद्रगुप्त मौर्य, अशोक और डॉ. राजेंद्र प्रसाद जैसी अनेक विभूतियों को जन्म दिया है।’ अपनी क्षमा याचना के साथ अंत में काटजू ने ‘बिहार जिंदाबाद’ लिखा।

इससे पहले काटजू के खिलाफ राज्य में देशद्रोह और मानहानि के केस दायर किए गए हैं। पटना के सीजेएम कोर्ट में उनके खिलाफ परिवाद पत्र दायर किया गया। इस पर सुनवाई गुरुवार को होगी। अरविंद कुमार पंकज ने यह केस दायर किया। कोर्ट से आइपीसी की धारा 500, 501, 505 और 124ए के तहत मुकदमा करने की अनुमति मांगी गई है।

परिवादी का आरोप है कि काटजू का यह बयान बिहार तथा बिहार वासियों की मानहानि है। औरंगाबाद के न्यायालय में भी एक परिवाद दायर किया गया है। इसे युवा परिषद के संस्थापक प्रभात बांधुल्या ने दर्ज कराया है। परिवाद में कहा गया कि काटजू सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश रह चुके हैं। आएदिन मीडिया और सोशल साइट पर आपत्तिजनक बयान देते हैं। उनके हालिया बयान से बिहार की गरिमा को ठेस पहुंची है।

वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी काटजू के बयान की निंदा की थी। बिहार के बारे में काटजू के बयानों से बुरी तरह आहत मुख्यमंत्री ने कहा कि सूबे में प्रगति हुई है। व्यवस्था सुधरी है। अब यह राज्य मजाक उड़ाने लायक नहीं रह गया है। काटजू का नाम लिए बगैर मुख्यमंत्री ने कहा कि कल जिन्होंने मजाक उड़ाया था उन्हें जवाब दे दिया गया है।