किशोर न्याय नियमावली के क्रियान्वयन को दो दिवसीय कार्यशाला का किया उद्घाटन-डीएम

198
0
SHARE

जहानाबाद- जिला पदाधिकारी आलोक रंजन घोष की अध्यक्षता में दो दिवसीय बिहार किशोर न्याय नियमावली- 2017 के सफल क्रियान्वयन हेतु समाहरणालय स्थित ग्राम प्लेक्स भवन में कार्यशाला का आयोजन किया गया।  कार्यशाला में जिला पदाधिकारी ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि बिहार एकलौता राज्य है जिसने किशोर न्याय नियमावली- 2017 का प्रकाशन करा कर इसके क्रियान्वयन हेतु प्रभावी कार्रवाई कर रहा है। दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि उन्हें आशा है कि इस कार्यशाला के माध्यम से संबंधित संस्थाओं,समिति के प्रतिनिधि किशोर न्याय नियमावली-2017 के संबंध में अधिक-से-अधिक जानकारी प्राप्त करेंगे, जिसका उपयोग वे बच्चों,किशोरों के कल्याण में करेंगे। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला में यूनिसेफ तथा राज्य स्तर के रिसोर्स पर्सन के द्वारा आप सबों को नियमावली से संबंधित जानकारी दी जाएगी, जिसका उपयोग आप आपने क्षेत्रों में करेंगे। उन्होंने कहा कि आज के परिप्रेक्ष्य में बच्चों,किशोरों को कानून के संरक्षण की अत्यधिक आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि शीघ्र हीं जिला प्रशासन द्वारा बच्चों,किशोरों के संरक्षण एवं उनके अधिकारों से संबंधित कार्य कराये जाएँगें। आवासीय स्कूलों में पढ़ने एवं रहने वाले छात्रों के अधिकार एवं उनके नीजता का उल्लंघन के समाचार हमें प्राप्त होते रहते है। जिला प्रशासन का प्रयास होगा कि इस जिले में बच्चों को उचित मार्ग दर्शन दिया जाए तथा उनके अधिकारों का संरक्षण किया जाए।

उन्होंने कहा कि कार्यशाला के माध्यम से हमलोग एक-दूसरे का अनुभव एवं सुझाव प्राप्त कर इस दिशा में साकारात्मक कार्य कर सकेंगे। इस कार्यशाला के लिए यूनिसेफ तथा जिला बाल संरक्षण इकाई को जिला पदाधिकारी ने धन्यवाद किया। कार्यशाला में पुलिस अधीक्षक मनीष कुमार ने कहा कि बिहार किशोर न्याय नियमावली- 2017 का दायरा व्यापक है, जिसके माध्यम से हम बच्चों,किशोरों के अधिकार एवं संरक्षण का कार्य कर सकते है। उन्होंने इस नियमावली को अति महत्वपूर्ण बताते हुए संबंधित पदाधिकारियों एवं संगठनों से अनुरोध किया कि वे इस नियमावली का क्रियान्वयन गंभीरता से करावें। कार्यशाला में भाग लेने वाले प्रतिनिधियों को प्रश्नावली के माध्यम से बिहार किशोर न्याय नियमावली- 2017, बाल संरक्षण, किशोर न्याय परिषद् के कार्यों एवं अधिकारो के बारे में बताया गया। इस कार्यशाला में जहानाबाद, अरवल एवं नालंदा जिलें के सहायक निदेशक, जिला बाल संरक्षण इकाई, नोडल पदाधिकारी, विशेष किशोर पुलिस इकाई, श्रमाधीक्षक, बाल संरक्षण पदाधिकारी, अध्यक्ष एवं सदस्य, जिला बाल कल्याण समिति, जिला किशोर न्याय परिषद के सदस्य एवं विभिन्न बाल देख-रेख संस्थानों के अधीक्षकों ने भाग लिया। सहायक निदेशक, बाल संरक्षण इकाई, जहानाबाद -सह- कार्यक्रम के नोडल पदाधिकारी अभय कुमार द्वारा आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए जहानाबाद जिला द्वारा बाल संरक्षण के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यो के बारे में बताया गया। कार्यशाला में सैफ-उर रहमान तथा शाहिद जवाइद, राकेश कुमार, स्टेट कन्सलटेंट, डी0एस0डब्लु0, यूनिसेफ तथा अन्य वक्कताओं के द्वारा बाल संरक्षण एवं किशोर न्याय परिषद् के बारे में विस्तार से बताया गया। इस मौके पर बाल संरक्षण पदाधिकारी ब्रजेश मिश्रा एवं सतीश रंजन सहित कई लोग उपस्थित थे।