किसान चौपाल में भाग लेकर किसान, पदाधिकारी एवं प्रसार कर्मी आपस में भावनात्मक रूप से जुड़ रहे हैं – डॉ प्रेम कुमार

115
0
SHARE

पटना – बिहार के कृषि विभाग मंत्री डाॅ॰ प्रेम कुमार द्वारा बामेती, पटना के सभागार में आयोजित बैठक में पटना जिला के विभिन्न पंचायतों में आयोजित किये जा रहे किसान चौपाल के बारे में फीडबैक लिया गया। जिला कृषि पदाधिकारी, पटना ने बताया कि विभिन्न पंचायतों में 01-15 जून तक 326 पंचायतों में किसान चौपाल का आयोजन किया जाना है, जिनमें से अबतक 226 पंचायतों में किसान चौपाल का आयोजन किया गया है। अबतक इन किसान चौपाल में 49,256 किसान, 705 जनप्रतिनिधि तथा 2,339 प्रसार पदाधिकारी/कर्मीगण भाग लिये हैं तथा किसानों से अबतक 139 सुझाव प्राप्त हुआ है।

मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि बिहार के कुल 8405 पंचायतों में से अबतक 7628 पंचायतों में किसान चौपाल का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया है, जिनमें 5,84,594 किसान, 12,618 जनप्रतिनिधि तथा 16,879 प्रसार पदाधिकारी एवं कर्मचारीगणों ने भाग लिया है। अबतक आयोजित किसान चौपाल में राज्य के किसानों द्वारा 11,231 सुझाव प्राप्त हुआ है जिनपर विभाग द्वारा विचार किया जायेगा। भारत सरकार के उपक्रम नेफेड द्वारा दलहन के क्रय करने हेतु राज्य सरकार द्वारा पहल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पंचायत स्तर पर कृषि कार्यालय खोला जायेगा। उन्होंने आगे बताया कि प्रथम हरित क्रांति का केन्द्र पंजाब था लेकिन दूसरी हरित क्रांति का केन्द्र बिहार होगा। किसानों की सुविधायों को देखते हुए कृषि यांत्रिकरण मेला का आयोजन अनुमंडल स्तर पर किया जायेगा तथा अब किसान अपनी पसंद के कृषि यंत्र क्रय करने हेतु सालों भर आॅनलाईन आवेदन कर सकते है।

मंत्री ने किसान काॅल सेंटर का टाॅल फ्री नम्बर 18001801551 को किसानों के बीच अधिक-से-अधिक प्रचारित करने का निर्देश विभागीय पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों को दिया। साथ ही, उन्होंने किसान चैपाल में मुख्यालय स्तर के पदाधिकारियों को भी अनिवार्य रूप से भाग लेने का निदेश दिया। डाॅ॰ कुमार ने कहा कि किसानों के द्वार पर किसानों की समस्या से अवगत होने, विभागीय योजनाओं के लिए उनसे सुझाव प्राप्त करने तथा नवीनत्तम तकनीकी जानकारियाँ अन्नदाता किसान भाईयों एवं बहनों तक पहुँचाने के लिए राज्य में विभाग द्वारा एक जून से किसान चौपाल की शुरूआत की गई है, जो 15 जून तक राज्य के सभी पंचायतों में आयोजित किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि किसान चौपाल में भाग लेकर किसान, पदाधिकारी एवं प्रसार कर्मी आपस में भावनात्मक रूप से जुड़ रहे हैं। इसके माध्यम से किसानों को कृषि, पशुपालन, मत्स्य एवं सहकारिता विभाग द्वारा संचालित योजनाओं/कार्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है तथा इन विषयों पर राज्य के किसानों से सुझाव भी प्राप्त किये जा रहे हैं। किसान चौपाल का आयोजन राज्य के सभी पंचायत के गाँवों में बारी-बारी से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसान चौपाल के आयोजन का मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री का पहल वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने एवं मुख्यमंत्री का सपना हर भारतीय की थाल में बिहार का एक व्यंजन पहुँचाने का है।

इस बैठक में कृषि विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल, कृषि निदेशक हिमांशु कुमार राय, कृषि मंत्री के आप्त सचिव मृत्युंजय कुमार, निदेशक, पी॰पी॰एम॰ धनंजयपति त्रिपाठी, निदेशक, बामेती गणेश कुमार, प्रमण्डलीय संयुक्त निदेशक (शष्य), पटना उमेश कुमार चौधरी, पटना के जिला कृषि पदाधिकारी सुधीर कुमार, परियोजना निदेशक (आत्मा), कृष्णानंद चक्रवर्ती, पटना जिला के सभी अनुमंडल कृषि पदाधिकारी/प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी/प्रखण्ड/सहायक तकनीकी प्रबंधक, कृषि समन्वयक/किसान सलाहकार उपस्थित थे।