कृषि मंत्री के घोषणा के बाद भी अररिया जिला क्यों नहीं भेज रहा फसल क्षति का आकलन

194
0
SHARE

फसल क्षति मुआवजा और किसानी की समस्या को लेकर किसानों का सत्याग्रह

अररिया- जन शक्ति संगठन के बैनर तले अररिया जिला के सैंकड़ों किसान अपनी मांगो को लेकर जिला कृषि कार्यालय में एक दिवसीय सत्याग्रह पर बैठे। किसानों का कहना था कि मार्च-अप्रैल महीने में आंधी से फसल बर्बाद हुई तो कृषि मंत्री ने कहा कि क्षति का आकलन कर मुआवाजा दिया जाएगा पर अरिया के कृषि पदाधिकारी आकलन का रिपोर्ट ही नहीं दे रहे क्या उन्होंने आकलन का रिपोर्ट बना कर भेजा है ? दरअसल जिला में यह काम दो चार पंचायतों को छोड़कर हुआ ही नहीं आकलन। किसानों के आन्दोलन को नेतृत्व कर रहे जन जागरण शक्ति संगठन के उज्जवल कुमार ने कहा कि 17 अप्रैल को जिला कृषि पदाधिकारी से मिल कर आकलन के लिए आवेदन दिया जा चुका। लेकिन पदाधिकारी रूचि नहीं ले रहे। दवाब देने पर कुर्साकाँटा में कहीं-कहीं आकलन का छिटपुट काम भी किया गया पर रिपोर्ट जारी नहीं किया गया है। यह अररिया के किसानों के साथ नाइंसाफी है।

संगठन के सचिव आशीष रंजन ने कहा कि अररिया में बाढ़ के कारण धान और पटुआ का फसल भी बर्बाद हुआ था और उसका उचित मुआवजा भी किसानों को नहीं मिल पाया है। मकई की क्षति ने किसानों कि कमर तोड़ दी है। ऐसे में सरकार और प्रशासन की उदासीनता निंदनीय है। सरकार को किसानों का कर्ज माफ़ कर अपना दायित्व निभाना चाहिए।

लक्ष्मीपुर (कुर्साकाँटा) के किसान मनोज यादव ने कहा कि उन्होंने कर्ज लेकर खेती किया। 3 एकड़ की मकई के फसल में दाना नहीं आया। सरकार ने घोषणा किया कि मुआवजा देंगे। संगठन की ओर से दवाब डालने पर सर्वे भी किया गया पर अब कार्यालय रिपोर्ट देने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में हम किसके पास जाए ? ताराबाड़ी (अररिया) से आये कृष्ण कुमार सिंह ने कहा कि उन्होंने कृषि सलाहकार को फसल क्षति का आकलन करने के लिए कहा पर कोई सुनवाई नहीं हुई। जब आकलन नहीं होगा तो मुआवजा कैसे देगी सरकार और किसको देगी ? ऐसे में किसान क्या करेंगे ?

अमर मेहता ने कहा कि अररिया जिला में बाढ़ की वजह से किसानों का बुरा हाल है। अभी मकई का दाम भी घट गया है। मकई का समर्थन मूल्य 1425 प्रति क्विंटल रु है पर 900 से 950 रु क्विंटल में बिक रहा है, सरकार हमसे मजाक कर रही है। अररिया के किसान अब जाग रहे हैं और यह लड़ाई आगे जायेगी। सभा में निर्णय लिया गया कि इस लड़ाई को आगे बढ़ाएंगे। सभा को संगठन के रणजीत पासवान, शिवनारायण,शोहिनी, ब्रह्मानंद ऋषिदेव, मांडवी और अररिया के विभिन्न पंचायतों से आये किसानों ने संबोधित किया किया। सधन्यवाद रंजीत पासवान , कामायनी स्वामी, शिवनारायण, दीपनारायण पासवान, कृष्ण कुमार सिंह, फूल कुमारी, आशा देवी, आशीष रंजन, ब्रम्हानंद ऋषिदेव, रीना, जीतेन्द्र पासवान, सोहिनी, विजय, अजय सहनी और जन जागरण शक्ति संगठन के सभी सदस्य मौजूद थे।