कोर्ट ने रुबी राय को रिमांड होम के बजाय बेऊर जेल भेजा

183
0
SHARE

पटना : इंटर आर्ट्स टॉपर रही रूबी राय को शनिवार की शाम गिरफ्तारी के बाद महिला थाने में रख कर पूछताछ की गयी। उससे अडंर ट्रेनिंग डीएसपी वंदना कुमारी ने पूछताछ की। पुलिस सूत्रों के मुताबिक रूबी राय ने पूछताछ में बताया कि मुझे कुछ मालूम नहीं है कि मैं टॉपर कैसे बन गयी। उसने कहा, मैं परीक्षा में बैठी थी, जो मुझे आता था, मैंने कॉपी पर लिखा, लेकिन इसके बाद मेरे पिता और दादा ने क्या सेटिंग की, मुझे नहीं पता है।

वहीं एसआइटी ने पूछताछ के बाद रविवार को इंटर आर्ट्स की टॉपर रही रूबी राय को निगरानी के विशेष जज राघवेंद्र कुमार सिंह के कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे रिमांड होम के बजाय बेऊर जेल भेज दिया गया। उसे जेल के महिला वार्ड में रखा गया है।

यह गलती किसकी तरफ से हुई, यह तो जांच का विषय है। लेकिन, कोर्ट में उसके नाबालिग होने का कोई सबूत नहीं पेश किया गया। इस कारण कोर्ट ने उसे बेऊर जेल भेज दिया।

पुलिस हिरासत में ली गयी रूबी के साथ उसके माता-पिता या अन्य कोई अभिभावक मौजूद नहीं थे। इस कारण कोर्ट को उसकी ओर से उम्र की जानकारी नहीं मिल पायी। दूसरी ओर पुलिस ने भी उसे किसी तरह से नाबालिग साबित करने की कोई पहल नहीं की और न ही इसका पता लगाना ही उचित समझा। इस कारण मजबूरन कोर्ट को उसे बेऊर जेल भेजना पड़ा।

प्राप्त सूचना के अनुसार, बिहार बोर्ड की ओर से इस वर्ष जारी इंटर प्ररीक्षा प्रवेश पत्र में रूबी राय की जन्मतिथि 15 नवंबर, 1998 अंकित है। इस आधार पर वह अभी तक बालिग नहीं होती है।

पटना के एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि यह पूरी तरह से कोर्ट का निर्णय है। यह तय करना कोर्ट का काम है। पुलिस इसमें कुछ नहीं करती है। यह तो लड़की को ही साबित करना चाहिए था कि वह नाबालिग है या नहीं।