गया के कोठी थानाध्यक्ष का पार्थिव शरीर हुआ सुपुर्द-ए-खाक

1452
0
SHARE

गया: बिहार में गया के कोठी थानाध्यक्ष क्यामुद्दीन अंसारी का पार्थिव शरीर मंगलवार को औरंगाबाद में झंडा मस्जिद के कब्रिस्तान में पूरे रस्मोरिवाज के साथ सुपुर्द-ए-खाक किया गया। थानाध्यक्ष क्यामुदीन अंसारी के जनाजे में भारी संख्या में शामिल होकर लोगों ने उन्हें अंतिम विदाई दी।

एसएचओ के जनाजे में काफी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद थे। सदर डीएसपी ने कहा कि मृतक मेरा शिष्य था और मैंने ही उसे ज्वाइनिंग दिलवाया इस पुरे प्रकरण में जिस गिरोह का हाथ है उसे कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जायेगी।

एसएचओ की बड़ी बेटी ने कहा चुन चुनकर हत्यारों से बदला लेने की बात कही। उसके भाई ने कहा कि इस हत्या के पीछे कोठी के कुख्यात अपराधी शाने अली गिरोह का हाथ है। और यदि सरकार उसे सजा नही देती है तो पूरा परिवार आंदोलन करेगी।

उधर, अंसारी हत्या मामले में पुलिस ने आज आरोपी शाने अली की स्कार्पियो को जब्त कर लिया है। पुलिस ने सिविल लाईन के दुर्गाबाड़ी से स्कार्पियो को जब्त किया है। जानकारी के मुताबिक आरोपी शाने अली खान का औरंगाबाद से भी कनेक्शन हैं।
30 वर्षीय शाने अली पर कोलकाता सहित जिले की कई थाने में मामला दर्ज है. फिलहाल पुलिस उसकी तलाश में लगातार छापेमारी कर रही है।

कोठी थाने में कैंप के दौरान डीआइजी सौरभ कुमार व एसएसपी गरिमा मलिक ने शाने अली खान का आपराधिक इतिहास खंगाला। पता चला कि शाने अली खान के विरुद्ध कोठी थाने में छह मामले दर्ज हैं। कोठी थाने में पोस्टेड एएसआइ ने डीआइजी व एसएसपी को बताया कि उक्त सभी कांडों में शाने अली के विरुद्ध न्यायालय में चार्ज शीट दाखिल कर दिया गया है।

इन कांडों के अलावा चतरा जिले के कई थानों में शाने अली के वि रुद्ध मामले दर्ज हैं। उन मामलों में शाने अली की गिरफ्ता री को लेकर वारंट से संबंधित कागजात आते रहते हैं। एएसआइ ने बताया कि शाने अली के विरुद्ध कोठी थाने में पहली प्राथमिकी नौ मई 1987 को (कांड संख्या -50/87) दर्ज हुई थी। इसमें धारा 457 व 380 का प्रयोग किया गया था।