छठी की छात्रा रूपम की आंखों को मदद की दरकार

215
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा – रूपम के दोनों आँखों की रौशनी जा चुकी है। गरीबी और मुफलिसी की वजह से रूपम का इलाज घर वालों से अब मुश्किल है। स्कूल के बच्चे और ग्रामीणों ने आज प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के तस्वीर लगे बैनर तले, रूपम के आँखों का इलाज हो जाए, ताकि वो आगे पढ़ सके इसके लिए लगा रहे है गुहार।

जिले के पुरीख पंचायत के प्रमोद शर्मा भी अपनी बेटी रूपम को क्षमता के अनुसार सरकारी स्कूल में पढ़ा रहे थे, रूपम ने जब पहली से छठी कक्षा में प्रवेश किया तो अचानक उसकी दोनों आंखों की रौशनी गायब हो गयी। माता-पिता ने उसका सरकारी और निजी अस्पताल में इलाज कराया, लेकिन आँखों की रौशनी अभी तक वापस नहीं आयी है। बेहतर इलाज के लिए रूपम के पिता के पास पैसे भी नहीं है। वह रूपम को अपने सिर का बोझ समझकर थक हारकर घर बैठ गया है। आँखे जब सुरक्षित थी तो रूपम खुद अपने पढ़ाई का खर्चा सिलाई और कढ़ाई कर निकाल लिया करती थी आज उसकी आवाज बनकर ग्रामीण और स्कूली बच्चे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से उसके इलाज के लिए दुआ की गुहार लगा रहे हैं ताकि रूपम आगे पढ़कर कुछ बन सके।