छात्रसंघ अध्‍यक्ष विकास बॉक्‍सर के नेतृत्‍व में छात्रों ने किया पाटलिपुत्र विवि‍ शाखा कार्यालय का घेराव

188
0
SHARE

पटना – पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के कुलपति गुलाब चंद राम जयसवाल के तानाशाह रवैया के खिलाफ कॉलेज ऑफ कॉमर्स छात्रसंघ अध्यक्ष सह जन अधिकार छात्र परिषद के वरीय प्रदेश उपाध्यक्ष विकास बॉक्सर यादव के नेतृत्‍व में जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्रों ने पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय शाखा कार्यालय घेराव भी किया, जिसके बाद मौके से कुलपति कार्यालय छोड़कर फरार हो गए। छात्रों का कहना था कि जिस तरीके से पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय में गुप्त बैठक बुलाई गई है, वह बेहद ही निराशाजनक थी। इस बात से नाराज छात्रों ने अपनी नाराजगी जताते हुए छात्र संघ की ओर से जोरदार विरोध – प्रदर्शन किया।

इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में छात्र संघ अध्यक्ष सह जन अधिकार छात्र परिषद के वरीय प्रदेश उपाध्यक्ष विकाश बॉक्सर यादव ने कहा कि पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के कुलपति ने विश्वविद्यालय के कार्यभार वैसे अधिकारियों के हाथों में दे रखा है, जो पहले से ही बहुत बड़े-बड़े घोटालों में संलिप्त हैं। लगातार हो रहे बड़े-बड़े घोटाले, धांधली एवं शैक्षणिक अराजकता समेत कई घोटालों में उन सभी 10 अधिकारियों के नाम हैं, जिन पर करोड़ो के घोटाले का मुकदमा अभी भी कोर्ट में चल रही है। इसके अलावा उन लोगों को ही सीमित के बैठक में भागीदारी दी गई है, जिन 10 अधिकारियों पर करोड़ों के घोटाले का मुकदमा चल रहा है।

उन्‍होंने कहा कि आज जब हम सभी छात्र साथी मिलकर कुलपति के खिलाफ पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय शाखा कार्यालय का घेराव किया तो कुलपति महोदय वहां से चुपके से फरार हो गए। पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के डीएसडब्ल्यू ने मौके पर ही अपनी सारी बातों को झुठला दिया और छात्रों के सवालों को नकारते हुए उन्होंने बात को पलटना चाहा। साथ ही वे हम छात्रों को झूठा आश्‍वासन भी देने की कोशिश कर रहे थे।

विकास यादव ने बताया कि हम छात्रों के लिए यह बहुत ही ज्यादा असंतोषजनक बात है, हम छात्रों को सीनेट की बैठक में भाग्यदारी नहीं मिली। उन्होंने कहा कि छात्र संघ के अध्यक्ष होने के कारण उन्हें सीनेट की बैठक में भागीदारी पूर्ण रूप से मिलनी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कुलपति द्वारा लगातार अत्यधिक बहुत सारे ऐसे भ्रष्ट कार्य विश्वविद्यालय में चल रहा है जिस से संबंधित खबर ना तो किसी छात्र संघ के प्रतिनिधि को और ना ही कॉलेजों के किसी मुख्य शिक्षक को। साथ ही कॉलेज ऑफ कॉमर्स के प्रॉफेसर एवं पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के मेडियाप्रभारी डॉ० मंगलम, डीएसडब्ल्यू समेत कई अधिकारी भी स्वतः संलिप्त हैं जिनके ऊपर घोटाले का मुकदमा दर्ज है। मौके पर सागर उपाध्याय, अमित पाठक, प्रभात सत्या, अमृत सिंह, धीरज सिंह, राहुल मंडल, संदीप यादव, आकाश सिंह, कुणाल आनंद, गौतम पटेल मौजूद थे।