जद-यू के साथ गठबंधन की दिशा में वाम एकता संभव नहीं: माले

500
0
SHARE

वाम पार्टियों सीपीआई, सीपीएम और भाकपा-माले की आज सीपीआई(एम) कार्यालय में लोकसभा की दिशा को लेकर बैठक हुई।

भाकपा-माले पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सीपीआई व सीपीआई (एम) की जद-यू के साथ गठबंधन की संभावनाओं को खुला रखने के सवाल पर तीखी बहसे हुई हैं। भाकपा-माले का मानना है कि किसी भी सत्ताधारी पार्टी से गठबंधन की बात सोचना वामपंथ के लिए दुर्भाग्यपूर्ण होगा। उन्होंने कहा कि जिस दल के खिलाफ बिहार की जनता पिछले 8 वर्षों से संघर्षरत रही है, उससे समझौता करना बिहार की संघर्षशील जनता से गद्दारी होगी।

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि वाम दलों और जनता के सवालों पर आंदोलन कर रही जनवादी ताकतों की एकता कायम हो, जिसपर अभी सीपीआई और सीपीआई(एम) की सहमति नहीं बन रही है।

बावजूद इसके, भाकपा-माले वाम दलों की एकता का प्रयास जारी रहेगा और पटना साहिब से कोशिश होगी कि संघर्षों का कोई ऐसा प्रतिनिधि उतारा जाए जिसपर सभी वाम दलों की एकता बने। उन्होंने कहा कि बैठक में प्रो नवल किशोर चौधरी का प्रस्ताव दिया गया है, जो पटना और बिहार में वाम दलों की आवाज रहे हैं।

बैठक में सीपीआई के वरिष्ठ नेता बद्रीनारायण लाल व जितेन्द्र नाथ, भाकपा-माले पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा व राज्य स्थायी समिति सदस्य राजाराम तथा सीपीआई (एम) के राज्य सचिव विजयकांत ठाकुर व सचिव मंडल सदस्य अरूण कुमार मिश्रा उपस्थित थे।