जन धन खाते में 40 लाख, खाता हुआ सीज

1078
0
SHARE

आरा: बिहार के आरा के नेहरू नगर की रहने वाली सितारा देवी के बैंक खाते में अचानक 40 लाख रुपए जमा होने की सूचना के बाद आयकर विभाग ने इसकी जांच शुरू कर दी है। यह बैंक खाता प्रधानमंत्री की जनधन योजना के तहत ‘जीरो बैलेंस’ से खोला गया था। खाता खुलने के करीब डेढ़ साल तक इसमें कोई खास नकदी जमा नहीं कराई गई थी।

पिछले आठ नवंबर को नोटबंदी के एलान के ठीक एक सप्ताह बाद इस खाते में 40 लाख रुपए की नकद राशि जमा कराई गई। जनधन योजना के तहत यह बैंक खाता बिहार के आरा के नेहरू नगर में रहने वाली सितारा देवी नामक महिला की है।

आयकर की टीम ने इतनी बड़ी रकम जमा कराने के संबंध में उससे पूछताछ शुरू कर दी है। पूछताछ के दौरान सितारा देवी ने आयकर विभाग को बताया कि उसका आरा में गाय और दूध का बहुत बड़ा कारोबार है ये सारे पैसे उसी के है । उसने कभी अपनी और पुरे परिवार की गाढ़ी कमाई के पैसे बैंक में नहीं रखे। लेकिन नोटबंदी के बाद उसे ऐसा करना पड़ा है।

सितारा देवी की पांच बेटी है जिनमें से दो की शादी की तैयारी शुरु भी कर दी थी। जैसे ही नोट बंदी की खबर मिली आनन फानन में घर में रखे हुए सारे पैसे सितारा देवी ने अपने देना बैंक के जनधन खाते में जमा करा दिये। बैंक में इतनी मोटी रकम जमा करते वक्त बैंक के किसी भी अधिकारी ने न कोई सवाल किया न ही पैन कार्ड मांगा।

फ़िलहाल सितारा देवी का खता सीज कर दिया गया है। सारी जमा पूंजी बैंक में होने के कारण सितारा देवी को अब काफी परेशानी हो रही है घर के 60 सदस्य और 70 गाय भैस को कैसे रखती है ये तो सीतारा देवी मन ही मन सोच रही होंगी ।

आयकर विभाग की टीम अब सितारा देवी और उसके पति से इतनी बड़ी धनराशि के श्रोत के संबंध में विस्तृत पूछताछ कर रही है। पूछताछ में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि सितारा देवी की जीवन शैली से नहीं लगता है कि इसके पास इतनी बड़ी नकदी होगी। जांच के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।