जब नीतीश की सांस अटक गई थी, राज्यपाल ने खोला राज

678
0
SHARE

पटना समाचार – (Patna News) जब राजभवन से फाइल लौटने में देरी हुई तो मुख्यमंत्री को चिंता लगा रहा होगा, यह स्वाभाविक भी है। जो कानून विधानमण्डल में पास हो जाए और राजभवन में अटक जाए तथा अटका ही रहे तो सरकार के लिए चिंता होना तो स्वाभाविक है लेकिन मैं वकील से बार-बार सहमति ले रहा था।

Read More Patna News in Hindi

कई लीगल ओपिनियन भी लिया। हमने तीन चीज पर ओपिनियन का सवाल लिया था- क्या शराबबंदी को विधानमंडल ने पास किया…इसको कानून बनाने का अधिकार है या नहीं… दूसरा सवाल किया क्या ये कदम कल्याणकारी हैं या नहीं… क्या बहुसंख्यक लोग इससे लाभार्थी होंगे… तीसरा पूछा कि सरकार की नियत क्या है, बदनीयत तो नहीं… तब मैंने कहा इसको ओके कर दीजिए। जब इस निर्णय पर सहमति बना बिल पास किया तो हम गौरवान्वित हुए। उक्त बातें बिहार के राज्यपाल रामगोविंद ने मुख्यमंत्री के अनुव्रत सम्मान समारोह में कही। इस मौके पर उन्होने नीतीश के पूर्ण शराबबंदी की जमकर तारीफ़ की।

Read More Bihar News in Hindi

रामनाथ कोविंद ने राज खोला की कैसे नीतीश की धड़कन तेज हो गई थी जब शराबबंदी की फ़ाइल राजभवन में रोक दी गई थी। मेरे बिहार आये करीब डेढ़ साल हुआ और मेरे सामने विधानमंडल द्वारा शराबबंदी का बिल पारित हुआ । सब जानते है कि बिल राज्यपाल के पास भी आता है और जबतक राजभवन से बिल पारित नहीं होता तबतक पास नहीं माना जाता। कुछ लोगों ने इसका विरोध किया कि ये मेरी निजता का मामला है शराबबंद नहीं होना चाहिए। कानून तानाशाह है पास नहीं होना चाहिए। लेकिन मैं तो संविधान का शपथ खाया था। शपथ के दौरान दो-तीन बातों का ध्यान होता है। सरकार के लिए ये साहसिक और ऐतिहासिक कदम था। बिल पास करने के लिए पढ़ने, अध्ययन करने में मुझे कुछ समय लगा इसलिए बिल देर से पास हुआ। आज जब मुख्यमंत्री भी यहां बैठे हैं तो इस मंच से आचार्यश्री से इसका उल्लेख करना समुचित समझा। पूर्ण शराबबंदी बहुत अच्छी है। धन और अहंकार भी एक नशा है, ऐसे में व्यक्तिगत क्षति होता है। इसपर भी ध्यान केंद्रित करना चाहिए। नशा मुक्ति से आगे बढ़ कर भी काम करना चाहिए।

मुख्यमंत्री के शराबबंदी निर्णय से आज समाज में सुपरिणाम दिखाई पड़ रहा है। आज जब मुख्यमंत्री को सम्मानित किया गया और इस समारोह में मैं भी शामिल हूं तो इससे हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। वैसे भी मुख्यमंत्री ने कहा कि ये सम्मान पूरे बिहार का है। इस बिहार में राजभवन भी आता है रामनाथ गोविंद भी आते हैं।