जमीनी विवाद में खूनी खेल

479
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा – बिहार के सहरसा जिले में जमीनी विवाद में गोली मारने का खूनी खेल बदस्तूर जारी है। वहीं पुलिस हाँथ पर हाँथ देकर बैठी रहती है, जी हाँ ये ताजा मामला सहरसा जिले के पतरघट ओपी क्षेत्र के किशनपुर गांव का है जहां दो पक्षो के बीच जमीनी विवाद को लेकर हिंसक झड़प हुआ। हथियार से लैस जमकर घंटो बरपता रहा कहड़ वहीं एक पक्ष के विमल यादव ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर 47 वर्षीय गजेंद्र यादव के पेट मे मारी दो गोली जिससे पेट की अतरी हुआ बाहर। गंभीर हालात में लाया गया इलाज हेतु सदर अस्पताल। जहां जख्मी शख्स मौत और जिंदगी से कर रहा है जदोजहद। तो वहीं सदर अस्पताल के चिकित्सक जख्मी शख्स की जान बचाने को लेकर है आमादा। घटना पतरघट ओपी क्षेत्र के किशनपुर गाँव की।

वहीं जख्मी के पुत्र का कहना है कि दो साल पूर्व से महज दो कट्टा जमीन का विवाद चल रहा है। आज मेरे पिताजी गजेंद्र यादव मशीन ठीक करवा कर घर वापस रहे थे कि विमल यादव व हिमांशु यादव पहले जमकर पिटाई की और फिर विमल यादव आया और खींचकर दो गोली पेट में मार दी।

वहीं इस पूरे मामले को लेकर सदर के एसडीपीओ प्रभाकर तिवारी ने कहा कि दो गोतिया दियाद के बीच जमीनी विवाद हुआ जिसमें गजेंद्र यादव को दो गोली लगी है। पुलिस मामला दर्जकर तफ्तीश में जुटी है।

इस इलाके में जमीनी विवाद नासूर की तरह है। आये दिन शहर हो या फिर कसबा महज कुछ धुर जमीन को लेकर इंसान खून के रिश्तों को भूल कर एक दूसरे के जान लेने को आमादा है। लेकिन आज सदर अस्पताल के चिकित्सक ने साबित कर दिया कि सच मायने में भगवान का दूसरा रूप डॉक्टर को कहना व्यर्थ नहीं जाता। क्योंकि आज चिकित्सक अपने आत्मबल व विवेक से गजेंद्र यादव ऐसे गंभीर जख्मी का समय रहते इलाज नहीं करते तो शायद गजेंद्र ने इस दुनिया को अबतक अलविदा कर दिया होता।