जान जोखिम में डालकर लोग आवागमन करने पर मजबूर

178
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिला के मोहनिया थाना क्षेत्र के चंद कदम पर एक ट्रक के नीचे से जान जोखिम में डालकर लोग आवागमन करने के लिए विवश। यह घटना 23 सितंबर की है इस ट्रक से दवा लेकर गुड़गांव से पटना के लिए जा रही थी अनियंत्रित होकर डायवर्सन से टकराई और दीवाल से लटक गई लेकिन जिस जगह पर लटकी वहां से उस ट्रक से वहां का रास्ता रुक गया। वहां दोनों तरफ सड़क को पार करने के लिए एनएचएआई ने दीवाल का रास्ता छोड़ा हुआ है कई किसान अपने कंधे पर पशुओं के चारा और अपने फसलो को सर पे रख कर पार करने के लिए विवश हैं।

वहीं कैमूर के प्रशासन भी पार करता है लेकिन उसे हटाने का प्रयास किसी ने नहीं किया। शहर के लोगों का कहना है कि हम लोगों को इससे बहुत ही परेशानी है। खुद मोहनिया थाना के थानाध्यक्ष और मोहनिया शहर के सीओ भी मौत के नीचे से पार करते नजर आए जब इसकी तहकीकात की गई तब पाया गया कि मामला कोर्ट में चल रहा है जबकि नियम कहता है इसे उठाकर किसी सुरक्षित स्थान पर रख दिया गया होता जहां पर कि आगे की कार्रवाई होती। किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हो।

आज घटना को लोग ताक पर रखकर ट्रक के नीचे से पार होते हैं बच्चा से लेकर स्कूल के विद्यार्थी से लेकर प्रशासन तक उस ट्रक के नीचे से ही जाता है लेकिन किसी भी व्यक्ति को उसे हटाने की तकलीफ मुनासिब नहीं होती। यदि कोई घटना घट जाए कोहराम मच सकता है।

चालक से जब पूछा गया तो चालक ने बताया कि हम एक ट्रक को बचाने के चक्कर में इससे टकरा गए और मेरी गाड़ी लटक गई। गाड़ी तो लटक गई लेकिन नीचे से लोग आवागमन करते हैं हमने कई बार प्रयास किया कि मेरी गाड़ी उठ जाए किसी सुरक्षित जगह पर चली जाए लेकिन किसी ने मेरी एक भी नहीं सुनी। लोग कहते हैं कि कोर्ट से जो फैसला होगा तब आपकी गाड़ी उठेगी। ट्रक चालक वहीं NH-2 के के डी मौर्या ने बताया कि तीन बार क्रेन लेकर वहां हटाने गए लेकिन थाने द्वारा हटाने नहीं दिया गया।