जाली नोट के दो सौदागर गिरफ्तार, 30 लाख से ज्यादा के नकली नोट बरामद

2092
0
SHARE

बिहार के दरभंगा रेलवे पुलिस ने गुरुवार की सुबह शहर में लायी गयी नकली नोटों की बड़ी खेप के साथ दो युवकों को गिरफ्तार किया । पकड़े गए दोनों युवक की निशानदेही पर पुलिस ने तक़रीबन 30 लाख से ज्यादा की नकली नोट बरामद की है। मामला बड़ा होने के कारण रेल एसपी ने खुद इसकी मोनेटरिंग करते हुए पूरे मामले की पड़ताल की।

मामले की जानकारी देते हुए रेलवे एसपी बी.एन. झा ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी की दरभंगा स्टेशन पर नकली नोटों की खेप डिलीवरी होने वाली है। सूचना के बाद उन्होंने रेलवे थाना अध्यक्ष एन.के. सिंह के नेतृत्व में एक टीम गठित कर स्टेशन पर सघन तलाशी शुरू कर दी । गुरुवार की अहले सुबह करीब साढ़े तीन बजे स्टेशन के पोर्टियों के पास एक नयी बैग लिये खड़े युवक को देख जब उसकी तलाशी ली गयी तो उसके पास से नोटों की बंडल बरामद हुई । एसपी ने बताया कि जब उस युवक से पूछताछ की गयी तो उसने बताया कि पूर्णिया से नकली नोट लाकर दरभंगा में सप्लाई करता था । पूछताछ में उसने बताया कि पूर्णिया जिला के भवानीपुर थाना के नेहाल इस गैंग का मुख्य सरगना है । ये सभी लोग एक रैकेट बना कर नकली नोटों को बाज़ार में उतारते थे ।

एसपी बी.एन. झा ने मिडिया से बात करते हुए कहा की गिरफ्तार युवक में एक कटिहार जिले के कुर्सेला थाना के कौशिकपुर गांव निवासी उदेश कुमार मंडल है तथा दूसरा मधुबनी जिला के भवानीपुर गांव का सुफल चौधरी है, जो उदेश कुमार मंडल से असली नोट के बदले नकली नोट लेने आया था । उदेश कुमार मंडल से पूछताछ के बाद उसके घर कटिहार से पुलिस ने 30 लाख रूपये की 2000 हजार रूपये के नकली नोट बरामद की है। एसपी ने बताया की गिरफ्तार युवकों के पास से एक सौ की कुल 99700 नकली नोट तथा पांच सौ के 5 नकली नोट बरामद हुए हैं। वहीं रुपैया लेने आये सुफल चौधरी के पास से 20 हजार रूपये की असली नोट बरामद हुई है, जिसके बदले सुफल को जाली नोट लेना था । गैंग के मुख्य सरगना नेहाल अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है, जिसके लिए छापेमारी की जा रही है।