जिनके अच्छे दिन आने थे, आ गए : मुख्यमंत्री

353
0
SHARE

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज मुख्यमंत्री सचिवालय संवाद में लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग के विभिन्न योजनाओं के शिलान्यास एवं उद्घाटन समारोह के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि जिनके अच्छे दिन आने थे, आ गए। भाजपा ने लोकसभा चुनाव के पूर्व लोगों से वादा किया था कि अच्छे दिन लाएंगे। लोगों के तो अच्छे दिन नहीं आए लेकिन भाजपा वालों के अच्छे दिन आ गए इसी लिए वे जश्न मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता में मायूसी है। जिन उम्मीद के आधार पर लोगों ने भाजपा को वोट दिया था, उस पर वे खरे नहीं उतर रहे हैं। कोई वादा पूरा नहीं हुआ, सिवाय भाषण के कुछ नहीं हुआ। लोग इंतजार कर रहे हैं कि उनके कब अच्छे दिन आएंगे। भाजपा के अच्छे दिन आने के बाद वे अपने घरों में खुशियां मना रहे हैं।

पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रोन्नति में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के आरक्षण पर हाई कोर्ट के सिंगल बेंच का फैसला आया है। हमारी सरकार ने अनुसूचित जाति / जनजाति में प्रोन्नति में आरक्षण देने का फैसला किया था। हमलोगों ने निर्णय लिया है कि हाई कोर्ट के सिंगल बेंच के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट के डबल बेंच में अपील में जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाई कोर्ट के सिंगल बेंच का जो फैसला आया है, उसका क्या फलाफल निकलेगा, इसके लिए हमलोग लीगल ओपिनियन ले रहे हैं। लीगल ओपिनियन आने पर देखेंगे कि आगे क्या करना है। वैसे अभी लीगल ओपिनियन नहीं आया है। इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति / जनजाति को प्रोन्नति में आरक्षण का फैसला हमलोगों ने सही बुनियाद पर लिया है। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के आलोक में कमिटी गठित की गयी थी, कमिटी के निर्णय के आधार पर कि अनुसूचित जाति / जनजाति को प्रोन्नति में आरक्षण की आवश्यकता है। हमलोगों ने प्रोन्नति में अनुसूचित जाति / जनजाति के आरक्षण का फैसला लिया। संविधान के तहत इस बात को लेकर जहां तक जाने का अवसर मिलेगा, हमलोग जाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव जी को मांग करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने राजनीतिक दल के नाते यह बात कही है।

पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विधान परिषद के चुनाव के लिए जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह अधिकृत हैं। उन्होंने कांग्रेस तथा सीपीआई से बातचीत की है। सीपीआई वामदलों के साथ अलग गठबंधन की बात कह रहा है। राजद से बातचीत हुई है। अंतिम रूप से सीट शेयरिंग का निर्णय नहीं आया है, बातचीत का सिलसिला जारी है।