जिलाधिकारी ने कंगन घाट स्थित टेन्ट सिटी का निरीक्षण किया तथा तख्त श्री हरिमंदिर साहिब में पूजा-अर्चना भी की

219
0
SHARE

पटना – जिलाधिकारी कुमार रवि ने आज श्री गुरू गोबिन्द सिंह जी महाराज के 352वें प्रकाश पर्व के अवसर पर देश एवं विदेश से आनेवाले सिख श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए किये गये तैयारियों का निरीक्षण किया। तख्त श्री हरिमंदिर साहिब पटना सिटी एवं कंगन घाट स्थित टेन्ट सिटी का निरीक्षण किया तथा पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया ताकि दूर-दूर से आने वाले सिख श्रद्धालु सुखद अनुभूति लेकर जाएँ। उन्होंने तख्त श्री हरिमंदिर साहिब में पूजा अर्चना भी की।

जिलाधिकारी ने श्री गुरू गोबिन्द सिंह जी महाराज के 352वाॅ प्रकाश पर्व के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण एवं सिख श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधा मुहैया करने हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दियें।

उन्होंने कहा कि 352वें प्रकाश पर्व के अवसर पर देश-विदेश से एक बार पुनः श्रद्धालुओं का पटना आगमन संभावित है तथा यह भी सत्य है कि श्रद्धालुओं की अपेक्षायें इस बार भी पूर्ववत रहेगी। इसे देखते हुए श्रद्धालुओं के लिये की जाने वाली व्यवस्थायें और भी बेहतर एवं उच्च कोटि का किये जाने हेतु राज्य सरकार एवं जिला प्रशासन पुनः इस बार भी दृढ़ संकल्पित है।

जिलाधिकारी ने कहा कि श्री गुरू गोबिन्द सिंह जी महाराज के 352वाॅ प्रकाश पर्व के अवसर पर श्रद्धालुओं के आवासन हेतु 5000 की क्षमता वाले टेन्ट सिटी का निर्माण कंगन घाट में किया गया है। साथ ही मूलभूत सभी आवश्यकताओं यथा-आवासन, साफ-सफाई, पेयजल, शौचालय, रौशनी, पथों का विकास, रिंग बस सर्विस, पानी के जहाज का परिचालन, चिकित्सा व्यवस्था एवं सुरक्षा इत्यादि की पूर्ण व्यवस्था की गयी है।

जिलाधिकारी ने कहा कि इस आयोजन को भी सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने के साथ-साथ आवश्यक सुविधा, सुरक्षा इत्यादि प्रदान करने के उद्देश्य से वरीय पदाधिकारियों सहित काफी संख्या में पदाधिकारियों को पूर्व से ही प्रतिनियुक्त किया गया है। विधि-व्यवस्था संधारण एवं सभी व्यवस्थाओं को सुचारू रखने हेतु सभी आवश्यक निर्देश दिये गये हैं।

साथ ही उन्होंने कहा कि आशा एवं पूर्ण विश्वास है कि प्रतिनियुक्त पदाधिकारी व दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, सभी कर्मी, समन्वयक पूरी टीम भावना से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुये अपेक्षाओं से कहीं बेहतर स्वयं को साबित करेंगे, जिससे कि राज्य की छवि और बेहतर हो सके तथा सभी आगन्तुक संतुष्टि के साथ वापस लौट सकें। व्यापक पैमाने पर विधि-व्यवस्था संधारण हेतु दंडाधिकारियों, पुलिस पदाधिकारियों एवं पुलिस बलों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

जिलाधिकारी ने कहा कि 352वां प्रकाशोत्सव समारोह दिनांक 11.01.2019 से 14.01.2019 के दौरान आयोजित होना है, किन्तु श्रद्धालुगण 09 जनवरी, 2019 से ही आना प्रारंभ कर दिये हैं तथा पुनः पूर्व की तरह पटना साहिब एवं आस-पास के क्षेत्रों में इस दौरान मेला जैसा दृश्य होगा। मेले में होने वाली श्रद्धालुओं की संभावित भीड़ की सुरक्षा एवं उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप बुनियादी सुविधाओं यथा-आवासन, शौचालय, रौशनी, पेयजल, परिवहन, साफ-सफाई, चिकित्सा एवं सुरक्षा इत्यादि मुहैया कराने हेतु राज्य सरकार एवं जिला प्रशासन द्वारा पूर्व से ही आवश्यकताओं का आकलन करते हुए तैयारियाँ की गई है।

जिलाधिकारी ने बताया कि राज्य एवं राज्य के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए इस वर्ष कंगन घाट में 5000 श्रद्धालुओं की क्षमता वाले टेन्ट सिटी का निर्माण किया गया है। साथ ही 08 विद्यालयों में भी श्रद्धालुओं के आवासन हेतु चिन्हित किया गया है। कंगन घाट स्थित टेन्ट सिटी में आवासन की व्यवस्था के साथ-साथ दो बड़े लंगर, शौचालय, स्नानागार, पेयजल, रौशनी की पूर्ण व्यवस्था की गई है। यात्रियों की सुविधा के लिए गर्म पानी की भी व्यवस्था की गई है।

जिलाधिकारी ने कहा कि कंगन घाट पर निर्मित टेन्ट सिटी में दो बड़े लंगरों की व्यवस्था है। इसके अतिरिक्त मुख्य गुरूद्वारा तख्त श्री हरिमंदिर जी साहिब, बाल लीला गुरूद्वारा एवं गुरूके बाग में चलने वाले लंगर पूर्व की तरह कार्यरत रहेंगे। साथ ही अन्य सभी गुरूद्वारों के लंगर भी पूर्ववत् कार्यरत रहेगा।

जिलाधिकारी ने बताया कि 352वें प्रकाश पर्व के दौरान दिनांक 12.01.2019 को नगर कीर्तन का आयोजन प्रस्तावित है, जो गायघाट से 2.00 बजे अपराह्न में निकलेगा एवं अशोक राजपथ होते हुए तख्त श्री हरिमंदिर साहिब, पटना सिटी पहुंचकर लगभग 9.00 बजे अपराह्न में समाप्त होगा। इस कार्यक्रम में अपार जन समूह के लगातार 08 घंटे तक सड़क पर पैदल चलते रहने के मद्देनजर सुरक्षा के साथ-साथ अन्य बुनियादी सुविधाओं की भी व्यवस्था की गई है।

जिलाधिकारी ने बताया कि इस अवसर पर देश विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा, सुरक्षा एवं सहायता के दृष्टिकोण से पटना शहर स्थित विभिन्न रेलवे स्टेशनों यथा-पाटलीपुत्र जंक्शन, पटना जंक्शन, राजेन्द्र नगर टर्मिनल, गुलजारबाग स्टेशन, पटना साहिब एवं पटना घाट रेलवे स्टेशन, पटना एयरपोर्ट एवं इन स्थलों से पटना सिटी की ओर जाने वाले महत्वपूर्ण मार्गों पर कुल 35 हेल्प डेस्क स्थापित किया गया है।

उन्होंने कहा कि गुरूद्वारा के आस-पास का क्षेत्र, कंगन घाट एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थल पर श्रद्धालुओं की सुरक्षा के दृष्टिकोण से वाॅच टावरों की स्थापना की गई है। वाॅच टावर पर प्रतिनियुक्त कर्मियों का दायित्व होगा कि भीड़-भाड़ वाले स्थलों पर भीड़ पर नजर रखते हुए उन्हें पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से नियंत्रित करने का कार्य करेंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि पटना शहर में पूर्व से अधिष्ठापित सी0सी0टी0वी0 के अतिरिक्त प्रकाशोत्सव के मद्देनजर सभी महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील स्थलों पर 110 सी0सी0टी0वी0 कैमरा की व्यवस्था की गई है तथा कंट्रोल रूप से माॅनिटरिंग की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि 352वें प्रकाश पर्व के अवसर पर पेयजलापूर्ति हेतु पूर्व से अधिष्ठापित स्त्रोतो के साथ-साथ इस अवसर हेतु नये निर्मित पेयजल स्त्रोतों को सुचारू रखने एवं आवश्यकतानुरूप आॅपरेशनल कार्यावधि बढ़ाने हेतु प्रबंध निदेशक, बिहार राज्य जल पर्षद, पटना एवं लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग तथा पटना नगर निगम के द्वारा आवश्यक कार्रवाई की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि गुरूद्वारा तक जाने वाले सभी सड़कों, पहुंच पथों एवं सभी आवासन स्थलों पर सफाई का दायित्व पटना नगर निगम का होगा। सफाई के क्रम में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव के साथ-साथ मच्छरों से बचाव हेतु फाॅगिंग की व्यवस्था पटना नगर निगम द्वारा किया जायेगा। 24X7 सफाई की व्यवस्था कार्यपालक पदाधिकारी पटना सिटी अंचल, पटना नगर निगम द्वारा की जा रही है।

जिलाधिकारी ने महाप्रबंधक पेसू को निदेशित किया है कि इस अवसर पर पटना सिटी सहिब शहर के अन्य क्षेत्रों में पर्याप्त रौशनी की व्यवस्था की जाय। पटना शहर के सभी महत्वपूर्ण मार्गों सहित पटना सिटी के पूरे क्षेत्र में स्थित विभिन्न मार्गों एवं गलियों में रौशनी की व्यवस्था की जाय। साथ ही इस अवसर पर विद्युत आपूर्ति निर्बाध रखी जाय।

जिलाधिकारी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा तीन स्थायी मेडिकल कैम्प के अलावे स्थापित 35 हेल्प डेस्क के स्थल पर चिकित्सा की व्यवस्था, चिकित्सक, चिकित्सा कर्मी एवं जीवन रक्षक दवाओं के साथ 24 घंटे की गई है। सिविल सर्जन, पटना निदेशक आई0जी0आई0सी0, पटना, से समन्वय कर आई0जी0आई0सी0 एवं पारस हाॅस्पीटल में भी बेड की व्यवस्था की गई है। सुरक्षित अस्थायी मेडिकल कैम्प एवं हेल्प डेस्क के पास एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है।

प्रकाश पर्व के दौरान आग लगने जैसी किसी घटना के मद्देनजर विभिन्न चिन्हित स्थलों पर अग्निशमन हेतु वाटर टेण्डरो, मिस्ट टेकनोलाॅजी के वाहनों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

352वें प्रकाश पर्व की तैयारियों को ससमय पूर्ण कराने के उद्देश्य से पटना शहर के सभी रेलवे स्टेशनों, आवासन स्थलों सहित सम्पूर्ण मेला क्षेत्र को सात जोन में बांटकर वरीय पदाधिकारियों के नेतृत्व में अन्य पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई ।

जिलाधिकारी ने बताया कि श्रद्धालुओं की सुविधा एवं भीड़ नियंत्रण के दृष्टिकोण से भीड़-भाड़ वाले सभी महत्वपूर्ण स्थलों पर वाच टाॅवर एवं हेल्प डेस्क पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने बताया कि पुलिस उपाधीक्षक, प्रारक्ष, नवीन पुलिस केन्द्र, पटना एवं प्रभारी श्वान दस्ता को निर्देश दिया गया है कि आवश्यक संख्यामें बम दस्ता एवं श्वान दस्ता की प्रतिनियुक्ति वाहन सहित करना सुनिश्चित करें, ताकि कहीं कोई सूचना प्राप्त होने पर अल्प अवधि में उक्त स्थल की जांच अपर पुलिस अधीक्षक अभियान के नेतृत्व में करायी जा सके।

जिलाधिकारी ने कहा कि पुलिस अधीक्षक (सुरक्षा), विशेष शाखा, बिहार पटना अपने स्तर से भी प्रशिक्षित कर्मियों को डी0एफ0एम0डी0ए0/एच0एच0एम0डी0 के साथ प्रतिनियुक्त करेंगे।

जिलाधिकारी ने स्थानीय नागरिकों एवं प्रतिनियुक्त सभी विभागों के पदाधिकारियों, कर्मचारियों, दंडाधिकारियों एवं पुलिस बलों से अनुरोध किया है कि अपने कर्तव्यों का पालन सौम्यता के साथ पूर्ण तत्परता से करें। बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के साथ विनम्रता से पेश आएं, ताकि बिहार की छवि बेहतर से बेहतर बना रहे।