जिलाधिकारी ने बताया संभावित बाढ़ से बचाव एवं सुरक्षा के उपाय

85
0
SHARE

पटना – जिलाधिकारी कुमार रवि की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में जल संसाधन विभाग के अभियंताओं एवं पटना नगर निगम के पदाधिकारियों के साथ संभावित बाढ़ से बचाव एवं सुरक्षा हेतु बैठक आयोजित हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता पुनपुन, बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल पटना सिटी को निर्देश दिया कि दीदारगंज से पुनपुन तक पटना सुरक्षा बांध को बाढ़ प्रवण क्षेत्र को 2016 के बाढ़ के लेवल से 02 फीट ऊँचा किया जाए। फतुहां से पुनपुन तक अक्राम्य स्थल की सूची एवं उपलब्ध संसाधन की सूची अविलम्ब उपलब्ध कराई जाए।

जिलाधिकारी ने यह निर्देश दिया कि बाढ़ से बचाव सामग्री पूर्व से ही सुरक्षित रखा जाए। कार्यपालक अभियंता पुनपुन, बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल पटना सिटी द्वारा जिलाधिकारी को बताया गया कि नाईलाॅन क्रेट 15472, खाली सिमेंट बोरा 255200 तथा 282 जी.ओ. बैग उपलब्ध है। बैठक में जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता पुनपुन बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल अनिसाबाद को निर्देश दिया कि पुनपुन से किंजर तक ज्यादा बाढ़ से प्रभावित होने वाला रिंग बांध की सुरक्षा पर पुरी चैकसी रखी जाय। 2016 में बाढ़ प्रभावित मनोरा, अलावलपुर, सुलतानचक में बोल्डर पिचिंग कराया जाय तथा अक्रम्य स्थलों की सूची उपलब्ध कराई जाए। कार्यपालक अभियंता ने बताया कि बालू-सिमेन्ट बोरा 70000 उपलब्ध है।

बैठक में जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता गंगा-सोन बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल खगौल को निर्देश दिया कि कोइल्वर से शाहपुर तक पटना सुरक्षा बांध की आवश्यकतानुसार मरम्मति एवं सुरक्षित रखा जाए। उन्होंने कार्यपालक अभियंता सोन बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल दीघा को निर्देश दिया कि दानापुर से गांधी घाट तक शहर सुरक्षा दीवाल की मरम्मति किया जाए। पटना सुरक्षा बांध का स्लूइस गेट को ससमय ठीक किया जाय। सामग्रियों का भंडारण दीघा घाट में किया जाए। कार्यपालक अभियंता बाढ़ सुरक्षा प्रमंडल बख्तियारपुर को निर्देश दिया कि घोसवरी से बख्तियारपुर तक पटना सुरक्षा बांध को सुरक्षित रखा जाए।

बैठक में जिलाधिकारी ने अधीक्षण अभियंता बाढ़ नियंत्रण एवं जल निस्सरण अंचल पटना को निर्देश दिया कि 95 होम गार्डों की प्रतिनियुक्ति कनीय अभियंता के देख-रेख में की जाय। प्रतिनियुक्त होम गार्ड एवं कनीय अभियंता की सूची तैयार कर 24 घंटे के अंदर आपदा प्रबंधन शाखा को उपलब्ध कराया जाए। जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता यांत्रिक क्षेत्र यंत्र प्रमंडल दीघा को निर्देश दिया कि तटबंधों, जमींदारी बांधो, बाढ़ निरोधक स्लूईस गेटों का निर्माण एवं मरम्मति तथा संपोषण कराये जा रहे कार्य का प्रतिवेदन 24 घंटे के अंदर दें। कार्यपालक अभियंता ने बताया कि 548 स्लूईस गेट है,जिसमें 540 कार्यरत है, 08 अकार्यरत है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि सभी स्लूईस गेट को ससमय ठीक कर सुरक्षित रखा जाए।

जिलाधिकारी ने सभी अभियंताओं को बांध की चौकसी एवं सुरक्षा हेतु सतत निगरानी करने का निर्देश दिया। बैठक में जिलाधिकारी ने पटना जल जमाव की समस्या का विस्तृत समीक्षा किया तथा कार्यपालक पदाधिकारी पटना नगर निगम नूतन अंचल सहित सभी कार्यपालक पदाधिकारी नगर निगम को निर्देश दिया कि सभी नालों का उड़ाही किया जाय। बरसात के समय अगर उड़ाही करते हुए पाये जायेंगे तो कार्रवाई की जायेगी। बैठक में जिलाधिकारी ने नाले पर किये गये अतिक्रमण को हटाने का निर्देश दिया। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि पटना को जल जमाव से मुक्त करने के लिए विस्तृत कार्य योजना 24 घंटे के अंदर दिया जाए।

जिलाधिकारी ने सभी कार्यपालक पदाधिकारी पटना नगर निगम को निर्देश दिया कि योगीपुर, सैदपुर, कुर्जी सरपेंटाईन, मंदिरी, बाकरगंज एवं बाईपास जैसे बड़े नालों का उड़ाही करें एवं सम्प हाउस को चालू रखा जाय। बड़े एवं सभी नाले की उड़ाही एवं सम्प हाउस चालू रखने से संबंधित क्या-क्या कार्रवाई की गई है। 24 घंटे के अंदर प्रतिवेदन दें। उन्होंने कहा कि पटना के सभी 38 सम्प हाउस को चालू रखा जाय। उन्होंने निर्देश दिया कि नाॅरमल वर्षापात होने पर जल जमाव चार से छः घंटे के अंदर निकल जाय, अधिक बारिश होने पर 12 घंटे के अंदर शहर से पानी निकले इसे सभी कार्यपालक पदाधिकारी नगर निगम सुनिश्चित करेंगे।

बैठक में जिलाधिकारी कुमार रवि के साथ अपर समाहर्ता आपदा मोईज उद्दीन अंसारी, जल संसाधन के सभी कार्यपालक अभियंता तथा नगर निगम के सभी कार्यपालक पदाधिकारी उपस्थित थे।