जूस पिला कर विधान पार्षद नवल किशोर यादव ने तुड़वाया अतिथि शिक्षकों का भूख हड़ताल

121
0
SHARE

पटना : बिहार राज्य उच्चतर माध्यमिक अतिथि शिक्षक संघ की ओर से प्रदेश के 4203 अतिथि शिक्षकों द्वारा पटना के गर्दनीबाग स्थित धरना स्‍थल पर आयोजित भूख हड़ताल आज दूसरे दिन समाप्‍त हो गया है। भूख ह‍ड़ताल विधान पार्षद नवल किशोर यादव ने संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कुमार व अन्‍य लोगों को जूस पिला का तुड़वाया और इस मामले में जिम्‍मेदार पदों पर बैठे लोगों से बात करने का आश्‍वासन दिया। उन्‍होंने कहा कि विकास कार्य सिर्फ सड़क और भवन बनाने से नहीं पूर्ण होता है। विकास का पैमाना शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य है। जब तक गांवों के अंतिम छोर तक शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य की अलख नहीं जगेगी, तब तक 21वीं सदी का विकास संभव नहीं है।

उन्‍होंने कहा कि हमने सदन में भी शिक्षकों की बात को उठाया है और कहा है कि शिक्षकों की दुर्दशा का मूल कारण उनकी भावानाओं को नहीं समझ पाना है। इसकी वजह है कि प्रशासनिक अधिकारियों को स्‍कूलों से कोई लेना देना नहीं है। जब अतिथि शिक्षकों को पूरी प्रक्रिया के साथ बहाल किया गया, तो फिर इनके साथ नाइंसाफी नहीं होनी चाहिए। आज शिक्षकों को हतोत्‍साहित नहीं, उत्‍साहित करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि भूख हड़ताल की अध्यक्षता संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कुमार कर रहे थे और संचालन संघ के प्रदेश महासचिव डॉ विपिन बिहारी और संचालन संघ के प्रदेश समन्वयक अजीत कुमार लोहिया ने किया। इस मौके पर बिहार के लगभग 4000 अतिथि शिक्षक अपनी मांगों को लेकर गर्दनीबाग धरना स्थल पर उपवास पर बैठे थे और न्याय के लिए मुख्यमंत्री से गुहार लगाई। मौके पर संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कुमार ने कहा कि हमारी मांग तब तक नहीं मानी जाती, तब तक लोकतांत्रिक प्रक्रिया से रहकर हम गुहार लगाते रहेंगे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए शिक्षा विभाग के नकारात्‍मक रवैये पर मुख्यमंत्री महोदय को अविलंब रोक लगानी चाहिए और हमारी सेवा को 60 वर्षों तक स्थायीकरण का अविलंब घोषणा कर देना चाहिए।

उन्‍होंने अपनी मांग के बारे में कहा कि हमारी मांग सेवा 60 वर्षों तक नियमित करने, एसटीइटी 2019 में 4203 कार्यरत अतिथि शिक्षकों के के पदों को शिक्षा विभाग वित्त दिखाना तत्काल प्रभाव से रिक्त दिखाना तत्काल प्रभाव से बंद करने और मुख्यमंत्री महोदय के द्वारा जल जीवन हरियाली यात्रा के दौरान मोतिहारी में अतिथि शिक्षकों के शिष्टमंडल को आश्वासन को पूरा करने की है। उन्‍होंने मोतिहारी में कहा था कि हम लोग अतिथि शिक्षक नहीं रहेंगे, क्‍योंकि हमारी सेवा स्थाई कर दी जायेगी।

भूख हड़ताल में मुख्य वक्ता के रूप में संघ के अजीत कुमार लोहिया खुशबू सिन्हा तरन्नुम हफीज श्याम नंदन प्रसाद चंद संतोष चंद्रकांत नूतन कुमारी कल्पना भारतीय राहुल कुमार रामकृष्ण दिग्विजय अभय नंदन कुमार आनंद कुमार राणा श्यामलाल प्रसाद राजीव रंजन कुमार इत्यादि ने भाग लिया।