जोकिहाट उपचुनाव में तेजस्वी लहर, नीतीश के उम्मीदवार की होगी जमानत जप्त : अरूण यादव

125
0
SHARE

पटना- युवा राजद के प्रदेश प्रवक्ता सह मीडिया प्रभारी अरूण कुमार यादव ने जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि महागठबंधन को धोखा देने के बाद एनडीए गठबंधन के साथ मिलकर अररिया लोकसभा और जहानाबाद, भभुआ विधानसभा उपचुनाव लड़ने के बाद उपचुनाव में वोट प्रतिशत का अध्ययन जदयू कर ले तो पता चल जाएगा अपना वजूद। जदयू को मालूम होना चाहिए कि 2014 के अररिया लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को 27 प्रतिशत और जदयू उम्मीदवार को 22 प्रतिशत वोट प्राप्त हुआ था और राजद के उम्मीदवार को 42 प्रतिशत वोट प्राप्त हुआ था। जबकि अररिया उपचुनाव में भाजपा-जदयू मिलकर चुनाव लड़ी और एनडीए गठबंधन उम्मीदवार को 42 प्रतिशत वोट प्राप्त हुआ। वहीं राजद के उम्मीदवार को 49 प्रतिशत मत प्राप्त हुआ।

अगर नीतीश के नाम पर जदयू को 2014 के लोकसभा चुनाव में मिले 22 प्रतिशत वोट भाजपा को उपचुनाव में ट्रांसफर हो जाता तो भाजपा चुनाव जीत सकती थी लेकिन वैसा नहीं हुआ। मतलब नीतीश जी में वोट ट्रांसफर करने की क्षमता नहीं है। जहानाबाद विधानसभा के उपचुनाव में भी राजद उम्मीदवार 56 प्रतिशत वोट प्राप्त कर चुनाव जीते। जबकि महागठबंधन के उम्मीदवार के रूप में 2015 के विधानसभा चुनाव में राजद को मात्र 51 प्रतिशत ही वोट मिले थे। इससे साफ जाहिर होता है कि लालू जी के नाम पर महागठबंधन में जदयू के 71 विधायक जीते हैं।

यादव ने कहा कि जोकिहाट उपचुनाव में तेजस्वी लहर चल रहा है। इस लहर में एनडीए के उम्मीदवार की जमानत जप्त होगी। राजद के उम्मीदवार ऐतिहासिक मतों से चुनाव जीतेंगे। वहीं नीतीश जी जदयू के सीट को बचाने के लिए खुलेआम सरकारी तंत्र का दुरूपयोग कर रहे हैं। राज्य सरकार के दर्जनों मंत्री मतदाताओं को दिग्भ्रमित करने के लिए पूरी ताकत झोंकी हुई है। लेकिन तेजस्वी जी के प्रभावशाली नेतृत्व के सामने कुछ नहीं चलने वाला है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव 25 और 26 मई को जोकिहाट विधानसभा के विभिन्न जगहों में चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे।