टाल विकास समिति मोकामा-बड़हिया के आहवान पर कृषि विकास समिति बड़हिया ने किया धरना-प्रदर्शन

269
0
SHARE

बड़हिया स्टेशन पर ट्रेन रोके जाने के कारण पटना-हावड़ा रेल मार्ग पर ट्रेन का परिचालन आठ घंटे तक अप में रहा प्रभावित, गर्मी से यात्री रहें हलकान

लखीसराय- दलहन फसल का समर्थन मूल्य देने एवं फसलों का क्रय करने के लिए क्रय केंद्र खोलने की मांग को लेकर सोमवार को सैकड़ों की संख्या में किसान सड़क पर उतर आए। टाल विकास समिति मोकामा-बड़हिया के आहवान पर कृषि विकास समिति बड़हिया के तत्वावधान में लखीसराय एवं बड़हिया में किसानों ने एनएच 80 पर धरना देकर रेल एवं सड़क पर चक्का जाम कर दिया एवं बाजार को बंद कराया। अप में आठ घंटा तक ट्रेन परिचालन ठप रहा। किसानों के प्रदर्शन का जिले में व्यापक असर रहा। बड़हिया में एनएच 80 पर लोहिया चौक के समीप एवं लखीसराय में एनएच 80 स्थित विद्यापीठ चौक पर किसानों ने सड़क के बीच टेंट लगाकर धरना पर बैठ गए। इसके कारण एनएच 80 पर यातायात पूरी तरह ठप रहा।

किसानों ने बड़हिया रेलवे स्टेशन पर 18184 डाउन टाटा-दानापुर सुपर एक्सप्रेस का हॉज पाइप काट कर एवं ट्रेन के ड्राइवर से इंजन की चाबी ले कर ट्रेन परिचालन ठप कर दिया। ट्रेन से चाबी लेने के दौरान स्टेशन पर तैनात जीआरपी पुलिस एवं प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़प की घटना भी हुई। इसके साथ ही बड़हिया स्टेशन पर किसानों ने पूछताछ कार्यालय एवं टिकट काउंटर में भी ताला जड़ दिया। किसानों के धरना-प्रदर्शन एवं बंदी के कारण जनजीवन पूरे दिन अस्त व्यस्त रहा। एनएच पर सैंकडा़ें की संख्या में छोटे-बड़े वाहन जहां-तहां फंसे रहे। रेल यात्रियाें के साथ सड़क मार्ग से यात्रा करने वाले लोगों को भीषण गर्मी के कारण काफी परेशानी झेलनी पड़ी। एनएच-80 पर वाहनों की लंबी कतार लगी रही।

सवर्ण सेना के नेतृत्व में विद्यापीठ चौक पर आयोजित धरना 01 बजे समाप्त कर दिया गया। वहीं बड़हिया में 03:10 बजे धरना व प्रदर्शन समाप्त किया गया। जिसके बाद एनएच 80 पर वाहनाें का एवं ट्रेन का परिचालन शुरू हुआ। बड़हिया स्टेशन पर डाउन टाटा-दानापुर सुपर एक्सप्रेस आठ घंटा खड़ी रही। इसके कारण जहां तहां ट्रेन स्टेशनों पर खड़ी रही। ट्रेन में सवार यात्री विलविलाते रहे। गर्मी के कारण एनएच 80 पर किसान परेशान रहे। प्रदर्शनकारी किसानों ने विभिन्न सरकारी कार्यालयों को भी बंद करा दिया। इस दौरान पुलिस अप्रिय घटना पर रोक लगाने के लिए सड़कों पर गश्त करती रही। 

जाम में फंसे यात्री रेलवे स्टेशनों एवं सड़क किनारे रहे हलकान 

एनएच 80 एवं रेल सेवा वाधित रहने से सड़क किनारे एवं रेलवे स्टेशन पर यात्री हलकान रहे। गर्मी के कारण शहर के विद्यापीठ चौक के निकट छोटे वाहन से पटना जा रहे कई परिवार सड़क किनारे झोपड़ी एवं दुकान के छांव का सहारा लेकर सड़क जाम समाप्त होने का इंतजार करते देखे गए। जमालपुर एवं भागलपुर से पटना जा रहे यात्रियों ने बताया कि जरूरी कार्य से पटना जा रहे थे लेकिन  जमा में फंस गए। किऊल, लखीसराय, मनकठा एवं बड़हिया स्टेशन पर भी रेल यात्री गर्मी से परेशान पसीने से लथपथ बच्चों एवं परिवार के अन्य सदस्यों के साथ ट्रेन परिचालन शुरू होने एवं ट्रेन खुलने की प्रतीक्षा करते देखे गए। किसानाें प्रदर्शन के कारण आठ घंटे तक रेल व सड़क मार्ग से सफर करने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ा। 

विभिन्न स्टेशनों पर खड़ी रही ट्रेन  

किसानों के प्रदर्शन के कारण विभिन्न स्टेशनों पर कई ट्रेन खड़ी रही। बड़हिया में डाउन टाटा-दानापुर सुपर एक्सप्रेस को सुबह 08:30बजे से प्रदर्शनकारी किसानों ने ट्रेन को रोके रखा। 03:10 बजे ट्रेन को खोला गया। वहीं मनकठा स्टेशन पर 13401 अप भागलपुर इंटरसीटी एक्सप्रेस, मननपुर स्टेशन में 18622 अप पाटलीपुत्रा एक्सप्रेस करीब आठ घंटे तक खड़ी रही। ट्रेन में सवार यात्री गर्मी से विलविलाते रहे। तीन बजे के बाद ट्रेन खुलने पर रेल यात्रियों ने राहत की सांस ली। किसानों के प्रदर्शन के कारण कई एक्सप्रेस, मेल एवं पैसेंजर ट्रेन विलंब से चली। 

प्रदर्शन के साथ रेल यात्रियों की रही चिंता, पानी-बिस्कुट का वितरण 

दलहन का समर्थन मूल्य नहीं मिलने से आक्रोशित किसान 18184 डाउन टाटा-दानापुर सुपर एक्सप्रेस काे बड़हिया स्टेशन पर रोके रखा। इस दौरान ट्रेन में सवार यात्री की परेशानी को देखते हुए 

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे कृषि विकास समिति, बड़हिया के सदस्यों ने आंदोलन को सफल बनाने के साथ यात्रियों की परेशानी को दूर करने के लिए मानवीय पहल भी की। सदस्यों ने ट्रेन में सवार यात्रियों के बीच पानी एवं बिस्कुट का वितरण किया। पानी एवं बिस्कुट पाकर यात्री राहत की सांस ली।   

दहलन फसल एवं किसान की समस्या

बड़हिया टालक्षेत्र बड़हिया से फतुहा तक 1064 वर्गमील में फैला है। क्षेत्र में काफी मात्रा में दलहन फसल की उपज होती है। दाल का कटोरा कहे जाने वाले टाल क्षेत्र में काफी मात्रा में दलहन फसल उत्पादन होता है लेकिन किसानों को उसकी सही कीमत नहीं मिल पाती है। किसानों की असल समस्या उनकी फसल की सही कीमत नहीं मिलना है। मसूर की खेती करने वाले टाल क्षेत्र के किसान दोहरी मार झेल रहे है। फसल उपज करने के बाद वाजिब कीमत नहीं मिलने से किसानों के लिए घाटे की खेती है।

किसानों के गोदाम में दलहन फसल पड़ा है लेकिन वाजिब कीमत नहीं मिलने से बाजार में औने-पौने दाम पर बेचने को मजबूर है। सरकार ने मसूर का न्यूनतम समर्थन मूल्य 4250 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है। लेकिन सरकारी स्तर पर किसानों से फसल खरीदने की कोई व्यवस्था नहीं है। खुले बाजार में मसूर की कीमत 32 से 34 सौ रुपये प्रति क्विंटल से ज्यादा नहीं मिल रही है। किसान समर्थन मूल्य तय करने के साथ दलहन फसल के क्रय के लिए क्रय केंद्र खोलने की मांग कर रहे है। इस संबंध में एक राउंड सरकार से भी किसानों की वार्ता हुई लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला। 

मांग नही पूरा नही हुआ तो किसान करेंगे भूख हड़ताल

बड़हिया के लोहिया चौक पर धरना पर बैठे किसानों ने कहा कि फसल की कीमत नहीं मिलने से बड़हिया टाल क्षेत्र के किसानों का दर्द बढ़ता जा रहा है। किसानों के कहा केंद्र और राज्य में सरकार रहने के बावजूद दलहन का समर्थन मूल्य नहीं दिया जा रहा न ही क्रय केंद्र खोलने की प्रक्रिया की जा रही है। सरकार के द्वारा दलहनी किसानों के प्रति दोहरी नीति अपनाई जा रही है। आंदेालनकारी किसान ने कहा कि बंदी के बाद भी अगर किसानों की मांग पूरी नहीं गई तो उग्र प्रदर्शन के साथ सभी किसान अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे।

किसानों ने विभिन्न कार्यालयों में जड़ा ताला, कामकाज ठप

सड़क जाम और बाजार बंद के दौरान किसानों ने घूम-घूम कर नगर पंचायत कार्यालय, प्रखंड मुख्यालय स्थित सभी कार्यालय, कृषि कार्यालय, बैंक सहित अन्य सभी सरकारी कार्यालयों में ताला जड़ दिया, जिससे कार्यालय में कार्य पूर्णत: ठप रहा। बड़हिया बाजार भी पूर्णत: बंद रहा। बाजार बंद करने वालों में कृषि विकास समिति के अध्यक्ष श्यामनंदन सिंह, संजीव कुमार, राजीव कुमार बबलू, घलटुन सिंह, महेश्वरी सिंह, नवीन सिंह, सुजीत कुमार आदि किसान शामिल थे। 

अप्रिय घटना को लेकर पुलिस लगाती रही गश्ती

किसानों के बंदी एवं सड़क व रेल चक्का जाम कार्यक्रम के दौरान किसी प्रकार की अप्रिय बारदात न हो इसके लिए पुलिस लगातार गश्त लगाती रही। बड़हिया रेलवे स्टेशन एसडीपीओ मनीष कुमार व बड़हिया थानाध्यक्ष रामनिवास,बीरूपुर थानाध्यक्ष संजीव कुमार, बड़हिया बीडीओ क्रांति कुमार पुलिस बल के साथ चौकस रहे। लखीसराय विद्यापीठ चाैक पर भी लखीसराय थानाध्यक्ष गौतम कुमार पुलिस बल के साथ मौजूद थे।