डीएम की पत्नी की दरियादिली

1781
0
SHARE

मोतिहारी- पति जिले के कलक्टर हैं और पत्नी बिना किसी पद पर रहते हुए भी आम जरुरतमंद लोगो के लिए फरिश्ता साबित हो रही हैं। यह किसी फिल्म की स्क्रिप्ट नहीं बल्कि पूर्वी चंपारण जिले के जिलाधिकारी की पत्नी की हकीकत है। जिनके पहल पर सड़क किनारे अचेतावस्था में पड़ी एक युवती को सदर अस्पताल में पुलिस ने भर्ती कराया और उसका इलाज चल रहा है।

हालांकि युवती को इलाज होने के बावजूद भी 30 घंटे बाद भी होश नहीं आया है। जिसे देखने जिलाधिकारी रमण कुमार की पत्नी सदर अस्पताल पहुंची और चिकित्सकों से उसके इलाज की जानकारी ली और अस्पताल प्रशासन को इस युवती के समुचित इलाज करने का आग्रह किया। दरअसल, जिलाधिकारी रमण कुमार की पत्नी किसी कार्यवश एनएच 28 से गुजर रही थी। तभी अचानक उनकी नजर सड़क किनारे बेहोश पड़ी युवती पर पड़ी।

उन्होंने तुरंत स्थानीय छतौनी थाना और महिला थाना को सूचित किया। जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और युवती को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहाँ उसका इलाज किया जा रहा है। अस्पताल में भर्ती युवती का समुचित इलाज हो रही है या नहीं उसे देखने वह खुद पहुंची और चिकित्सकों से बात कर बेहोश पड़ी युवती का इलाज ढंग से करने का आग्रह किया।