डीएम के आवास पर सीबीआई ने मारा छापा

580
1
SHARE

औरंगाबाद: जिलाधिकारी कंवल तनुज के आवास पर शुक्रवार को बीआरबीसीएल में हुए करोड़ो रूपये की जमीन की हेराफेरी मामले में पहुंची सीबीआई की पंद्रह सदस्यीय टीम ने और छापेमारी शुरू कर दी। डीएम के आवास पर छापेमारी की खबर जंगल में आग की तरह पुरे शहर में फ़ैल गयी और धीरे धीरे जिलाधिकारी के आवास पर भीड़ जुटनी शुरू हो गयी। हालांकि छापेमारी के थोड़ी देर बाद एसडीपीओ पीएन साहू एवं एसडीएम सुरेंद्र प्रसाद आवास के बाहर पुलिस बल के साथ मौजूद थे और भीड़ को हटाया। फिर भी मुख्य मार्ग पर डीएम आवास में हो रही गतिविधि की जानकारी को लेकर लोग इकट्ठे होते रहे। इसी क्रम में यूपी 65 बीटी 0154 से आयी सीबीआई की एक टीम को पुलिस ने रोक दिया और पूरी इंक्वायरी होने के बाद अंदर जाने दिया। पत्रकारों की टीम को भी सुरक्षा की दृष्टिकोण से पुलिस द्वारा सबों को वहाँ से हटा दिया गया। इस दौरान कई राजनितिक दल से जुड़े हुए नेता भी घूमते नजर आये। पत्रकारों की टीम ने बाहर निकले सीबीआई अधिकारीयों से छपेमारी की जानकारी लेनी चाही तो कुछ भी बताने से उन्होंने इंकार कर दिया।

क्या था मामला

जिलाधिकारी पर लगे आरोपों के बारे में विश्सनीय सूत्रों का कहना है की यह मामला नबीनगर में बनाये जा रहे पावर प्लांट के किसी जमीन से जुड़ा हुआ है जिसमे डीएम पर 2 करोड़ रुपये घूस लेने का आरोप है। बताया जाता है की एक जमीन जिसकी बंदोबस्ती को लेकर पूर्व के अंचलाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में साफ़ कर दिया था कि उक्त जमीन पर दावेदारी प्रस्तुत कर रहे आवेदक द्वारा प्रस्तुत किये गए साक्ष्य आधारहीन है और कोर्ट के द्वारा दिए गए आदेश के अंतर्गत नहीं आता है। परन्तु उक्त जमीन की बंदोबस्ती सीओ के रिपोर्ट के बाद भी अधिकार जता रहे व्यक्ति को कर दी गयी और उस जमीन के एवज में जो राशि भुगतान की गयी उसे आरटीजीएस के द्वारा किसी दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया। मामला धीरे धीरे जांच के दायरे में आ गया। हालाँकि इस सन्दर्भ में अभी कोई पुख्ता बयान मिडिया के समक्ष किसी अधिकारी द्वारा नहीं किया गया है। ऐसे में जब तक जांच की कार्रवाई पूरी नहीं हो जाती तबतक कुछ भी कहन मुश्किल है कि सीबीआई द्वारा किन किन आरोपों के आधार पर जिलाधिकारी के आवास पर छापेमारी की गयी।

सीबीआई की दिल्ली शाखा में दर्ज हुआ था मामला

मीडिया को अन्य श्रोतों से मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई की दिल्ली शाखा ने 21 फरवरी को औरंगाबाद डीएम के खिलाफ केस दर्ज किया था। डीएम कंवल तनुज समेत बीआरबीसीएल के सीइओ शिवकुमार को भी आरोपी बनाया गया है। इस छापेमारी का नेतृत्व सीबीआई एसपी राजेश रंजन कर रहे हैं और डीएम के लखनऊ और नोएडा सहित छह ठिकानों पर सीबीआई ने एकसाथ दबिश दी है। समाचार लिखे जाने तक औरंगाबाद में डीएम के आवास पर लगातार रेड चल रही है और सिर्फ अधिकृत सीबीआई के अधिकारीयों एवं आवास के गोपनीय अधिकारीयों को ही अन्दर जाने की अनुमति प्राप्त है।

जांच के घेरे में आ सकते हैं कई और भी अधिकारी

सूत्रों ने बताया कि सीबीआई रेड के बाद जमीन अधिग्रहण को लेकर जैसे ही जांच का दायरा बढ़ेगा वैसे ही इसमें कई अधिकारीयों पर भी गाज गिरने की संभावना बढ़ गयी है। फिलहाल डीएम के आवास पर संवाद प्रेषण तक एडीएम एवं भू-अर्जन पदाधिकारी से सीबीआई के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं और जमीन अधिग्रहण से जुडी एक एक फाई